Bhagavad Gita Adhyay 5 Hindi English

भगवद गीता अध्याय 5 | भगवद गीता श्लोक

भगवद गीता अध्याय 5 अर्जुन उवाच सन्न्यासं कर्म णां कृष्ण पुनर्योगं च शंससि |यच्छ्रेय एतयोरेकं तन्मे ब्रूहि सुनिश्र्चितम् || १ || श्लोक का अर्थ:अर्जुन ने …

Read more

गीता अध्याय 4 श्लोक का अर्थ

भागवत गीता चतुर्थ अध्याय | भागवत गीता के श्लोक

भगवत गीता श्लोक अध्याय 4 गीता अध्याय 4 श्लोक 1 श्रीभगवानुवाच इमं विवस्वते योगं प्रोक्तवानहमव्ययम्।विवस्वान्मनवे प्राह मनुरिक्ष्वाकवेऽब्रवीत्॥४-१॥ -: गीता अध्याय 4 श्लोक 1 हिंदी भावार्थ …

Read more

महर्षि व्यास कृत श्री भगवती देवी स्तोत्र

महर्षि व्यास कृत श्री भगवती देवी स्तोत्र | भगवती स्तोत्रम

महर्षि व्यास कृत श्री भगवती देवी स्तोत्र श्री भगवती देवी स्तोत्र की रचना महर्षि ब्यास जी ने की है। जो प्राणी शुद्ध भावना से नियमपूर्वक …

Read more

Tulsi Gayatri mantra

तुलसी गायत्री मंत्र | Tulsi Gayatri mantra

माँ तुलसी गायत्री मंत्र एक और बहुत शक्तिशाली मंत्र है। तुलसी गायत्री मंत्र के जाप से मन को शांति मिलती है। तुलसी गायत्री मंत्र घर …

Read more

भागवत गीता के श्लोक

भागवत गीता अध्याय तृतीय | भागवत गीता के श्लोक

भगवत गीता श्लोक अध्याय 3 अर्जुन उवाच गीता अध्याय 3 श्लोक 1 ज्यायसी चेत्कर्मणस्ते मता बुद्धिर्जनार्दन।तत्किं कर्मणि घोरे मां नियोजयसि केशव॥३-१॥ -: गीता अध्याय 3 …

Read more

शिव शंकर स्तुति

सदाशिवमहेन्द्रस्तुतिः | Sadha Shiv Mahendra Stuti

सदाशिवमहेन्द्रस्तुतिः । परतत्त्वलीनमनसे प्रणमद्भवबन्धमोचनायाशु ।प्रकटितपरतत्त्वाय प्रणतिं कुर्मः सदाशिवेन्द्राय ॥१॥ परमशिवेन्द्रकराम्बुजसंभूताय प्रणम्रवरदाय ।पदधूतपङ्कजाय प्रणतिं कुर्मः सदाशिवेन्द्राय ॥२॥ विजननदीकुञ्जगृहे मञ्जुळपुलिनैकमञ्जुतरतल्पे ।शयनं कुर्वाणाय प्रणतिं कुर्मः सदाशिवेन्द्राय ॥३॥ कामाहिद्विजपतये …

Read more

अपमृत्युहरं महामृत्युञ्जय स्तोत्रम्

अपमृत्युहरं महामृत्युञ्जय स्तोत्रम् | Apamrutyuharam Mahamrutyunjjaya Stotram

अपमृत्युहरं महामृत्युञ्जय स्तोत्रम् औम् अस्य श्रीमहामृत्यञ्जयस्तोत्रमन्त्रस्य श्रीमार्कण्डेय ऋषिः,अनुष्टुप् छन्दः, श्रीमृत्युञ्जयो देवता, गौरी शक्तिः,मम सर्वारिष्टसमस्तमृत्युशान्त्यर्थं सकलैश्वर्यप्राप्त्यर्थंच जपे विनियोगः । अथ ध्यानम् ॥ चन्द्रार्काग्निविलोचनं स्मितमुखं पद्मद्वयान्तः स्थितंमुद्रापाशमॄगाक्षसत्रविलसत्पाणिं …

Read more

Srishiva Suvarnamala Stavah

श्रीशिव सुवर्णमाला स्तवः | Shiva Suvarnamala Stavah

श्रीशिव सुवर्णमाला स्तवः अनेककोटिब्रह्माण्डजननीनायकप्रभो ।अनेकप्रमुखस्कन्दपरिसेवित पाहि माम् ॥१॥ आकारापारनिर्व्याजकरुणायाः सतीपते ।आशाभिपूरकानम्रविततेः पाहि शङ्कर ॥२॥ इभाश्वमुखसंपत्तिदानदक्षकृपालव ।इष्टप्रालेयशैलेन्द्रपुत्र्याः पाहि गिरीश माम् ॥३॥ ईहाशून्यजनावाप्य नतानन्दाब्धिचन्द्रमः ।ईशान सर्वविद्यानामिन्दुचूड सदाऽव …

Read more

shiv pradosh stotram

शिव प्रदोष स्तोत्रम् | Shiva Pradosh Stotra

शिव प्रदोष स्तोत्रम् जय देव जगन्नाथ जय शङ्कर शाश्वत ।जय सर्वसुराध्यक्ष जय सर्वसुरार्चित ॥१॥ जय सर्वगुणातीत जय सर्ववरप्रद ॥जय नित्य निराधार जय विश्वम्भराव्यय ॥२॥ जय …

Read more

maha rudra stotra, shiv stotra

महारुद्र स्तोत्रम् | Maha Rudra Stotra

महारुद्र स्तोत्रम् वाण्या ओङ्काररूपिण्या अंत उक्तोऽस्य नान्यथा ।सुरस्रिभुवनेशः स नः सर्वांतः स्थितोऽवतु ॥१॥ देवोऽयं सर्वदेवायः सूरिरुन्मत्तवत्स्थितः ।वाहो बलीवर्दकोऽस्य याचकस्येष्टदः स तु ॥२॥ नंदिस्कंधाधिरूढोऽपि त्रिप्रमित्यतिगः स्वभूः …

Read more

Shri Kashivishvanatha Stotram

श्री काशी विश्वनाथ स्तोत्रम् | श्रीकाशीविश्वनाथस्तोत्रम्

श्री काशी विश्वनाथ स्तोत्रम् ॥ कण्ठे यस्य लसत्कराळगरळं गङ्गाजलं मस्तकेवामाङ्गे गिरिराजराजतनया जाया भवानी सती ।नन्दिस्कन्दगणाधिराजसहिता श्रीविश्वनाथप्रभुःकाशीमन्दिरसंस्थितोऽखिलगुरुर्देयात्सदा मङ्गळम् ॥१॥ यो देवैरसुरैर्मुनीन्द्रतनयैर्गन्धर्वयक्षोरगै-र्नागर्भूतलवासिभिर्द्विजवरैः संसेवितः सिद्धये ।या गङ्गोत्तरवाहिनी परिसरे …

Read more

मनसा देवी मंदिर हरिद्वार

मनसा देवी मंदिर हरिद्वार उत्तराखंड

मनसा देवी मंदिर देवी मनसा को समर्पित है। मंदिर उत्तराखंड राज्य के पवित्र शहर हरिद्वार में स्थित है। मंदिर शिवालिक पहाड़ियों पर बिल्वा पर्वत की …

Read more

घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग

घृष्णेश्वर मंदिर | घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग

घृष्णेश्वर मंदिर, जिसे घृणेश्वर या घुश्मेश्वर मंदिर के नाम से भी जाना जाता है, शिव पुराण में वर्णित भगवान शिव के मंदिरों में से एक …

Read more