भाल पे चन्द्रमा

ऐसे लहरा  के गंगा जटा से बही,
दृश्य ऐसा हुआ है ना होगा कही,
मानो ऐसा लगा जैसे बरसी घटा,
देख के ये छटा तो मजा आ गया,
भाल पे चँद्रमा  कंठ में नील माँ,
देखा जोगी जो ऐसा मजा आ गया,
मनो ऐसा लगा जैसे बरसी घटा
देख के ये छटा तो मजा आ गया,
 
नाग विष धर  गले में लवटे हुए,
सारी सृष्टि स्वयं पे समेटे हुए,
त्रि नैन  में वसा त्रिववं का नशा,
इसमें जो डूबा मजा आ गया,
भाल पे चँद्रमा  कंठ में नील माँ,
 
प्रकृति और पुरष गोरी शंकर बने,
हुए जब एक अरधनैश्वर बने,
आधा तन गोरी का आधा तन भोले का,
देख अद्भुत नजारा मजा आ गया,
भाल पे चँद्रमा  कंठ में नील माँ,



 
 




   

Leave a Comment

0 Shares
Share
Tweet
Share
Pin