राशि के अनुसार बीज मंत्र | भाग्य खोलने का मंत्र | भाग्य मंत्र

राशियों के भाग्य मंत्र

१. मेष राशि भाग्य मंत्र
“ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं सः गुरवे नमः” व “ॐ बृं बृहस्पतये नम:” मंत्र का जप करने से मेष राशि सूर्य के समान चमकती है।

२. वृषभ राशि भाग्य मंत्र
“ॐ प्रां प्रीं प्रौं सः शनैश्चराय नमः” व “ऊँ शं शनैश्चराय नम:” मंत्र का जप करने से भाग्य उदय लाभ जरूर मिलता है।

३. मिथुन राशि भाग्य मंत्र
ॐ प्रां प्रीं प्रौं सः शनैश्चराय नमः; व ;ऊँ शं शनैश्चराय नम:; मंत्र का जप करने से जाचकों को भाग्य वृद्धि करने में सहायता मिलती है।

४. कर्क राशि भाग्य मंत्र
ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं सः गुरवे नमः; व ;ऊं गुं गुरुवाये नम:; मंत्र का जप करने से कर्क राशि के भाग्य में उन्नति होती हैं।

४ . सिंह राशि भाग्य मंत्र
सिंह राशि एक जचकीन के लिए भाग्य जगाने के लिए ‘ॐ क्रां क्रीं क्रौं स: भौमाय नम:’ व् “ॐ अंगारकाय नम:” मंत्र का पाठ करना चाहिए।

६. कन्या राशि भाग्य मंत्र
कन्या राशि के जाचकों को अपना भाग्य तेज़ करने के लिए ‘ॐ द्रां द्रीं द्रौं स: शुक्राय नम:’ व् ‘ॐ शुं शुक्राय नम:’ मन्त्र का जाप करना चाहिए !

७. तुला राशि भाग्य मंत्र
तुला राशि का भाग्य उदय करने के लिए ‘ॐ ब्रां ब्रीं ब्रौं स: बुधाय नम:’ व् ‘ॐ बु बुधाय नम :’ मंत्र का जाप करना चाहिए

८ . वृश्चिक राशि भाग्य मंत्र
ऊँ श्रां: श्रीं: श्रौं: सः चंद्रमसे नमः; व ;ॐ सों सोमाय नम:; मंत्र का जप करने से वृश्चिक राशि के भाग्य उदय में लाभ होता है

९ धनु राशि भाग्य मंत्र
धनु राशि वाले जातकों का भाग्योन्नति करने के लिए ‘ॐ ह्रां ह्रीं ह्रों सूर्याय नम:’, ”ऊँ खोल्काय नमः” व “ॐ ह्रां ह्रीं हौं स: सूर्याय नम:” मंत्र का जप करें !

१० . मकर राशि भाग्य मंत्र
ॐ ब्रां ब्रीं ब्रौं स: बुधाय नम:; व ;ॐ बु बुधाय नम ; मंत्र का जाप करें !

११. कुंभ राशि भाग्य मंत्र
स्फटिक की माला से “क्क शुं शुक्राय नमः ” की एक माला का जाप करने से कुम्भ राशि के भाग्य में उन्नति होती हैं.

१२. मीन राशि भाग्य मंत्र
मीन राशि का भाग्य प्रवल करने के लिए ;ॐ क्रां क्रीं क्रौं स: भौमाय नम:; व; ॐ अंगारकाय नम:; मंत्र का जाप करें !

rashi ke mantra
राशियों के भाग्य मंत्र

राशि भाग्य मंत्र और इष्ट देव पूजा के मंत्र ( भाग्य देवता मंत्र )

मेष राशिहनुमान के मंत्र ‘ऊँ हनुमते नम:’ का जाप करना चाहिए।
वृषभ राशि इस राशि के लोगों को मां दुर्गा की पूजा करनी चाहिए और मंत्र ” ‘देहि सौभाग्यं आरोग्यं देहि में परमं सुखम्‌’। रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि॥” का जाप करना चाहिए।
मिथुन राशि इन जाचकों को गणेशजी की पूजा करनी चाहिए। ‘ऊँ गं गणपतये नम:’ मंत्र का जाप करना चाहिए।
कर्क राशि शिव मंदिर में जाकर शिवलिंग के सामने बैठकर ‘ऊँ नम: शिवाय’ मंत्र जाप करें।
सिंह राशि सिंह राशि वाले लोगों को ‘ऊँ सूर्याय नम:’ मंत्र का जाप हर रोज़ 108 बार करना चाहिए।
कन्या राशि कन्या राशि के इष्टदेव गणेश जी है, उन्हें गणेशजी की मूर्ति के सामने बैठकर ‘श्री गणेशाय नम:’ मंत्र का जाप करें।
तुला राशि इस राशि के लोग देवी लक्ष्मी के मंत्र ‘ऊँ महालक्ष्म्यै नमः’ जाप करेंगे तो धन की अपार वर्षा होगी हैं और सुख समृद्धि बानी रहेगी।
वृश्चिक राशि इस राशि के लोग हनुमानजी जी की भक्ति करें और उनके ‘ऊँ रामदूताय नम:’ मंत्र का जाप करें।
धनु राशि धनु राशि वालों को भगवान विष्णु की पूजा करनी चाहिए। ये लोग ‘ऊँ नमो भगवते वासुदेवाय’ का मंत्र जाप करें।
मकर राशि शनिदेव के मंत्र ‘ऊँ शं शनैश्चराय नम:’ मंत्र का जाप करना चाहिए।
कुंभ राशि इस राशि के जाचकों को हनुमान चालीसा का पाठ रोज करना चाहिए।
मीन राशि मीन राशि के लोगों को नारायण की पूजा करनी चाहिए , उन्हें ‘ऊँ नमो नारायण’ का जाप करना चाहिए।
राशि और उनके इष्ट देव पूजा के लिए मंत्र

2 Shares
Share
Tweet
Share
Pin2