Shiv Kavach – शिव कवचम्

शिव कवचम् –  Shiva Kavacham      वज्रदंष्ट्रं त्रिनयनं कालकण्ठमरिन्दमम्। सहस्रकरमत्युग्रं वन्दे शंभुमुमापतिम् ॥१॥   अथो परं सर्वपुराणगुह्यं निश्शेषपापौघहरं पवित्रम्। जयप्रदं सर्वविपद्प्रमोचनं वक्ष्यामि शैवं कवचं हिताय ते ॥२॥   नमस्कृत्वा महादेवं सर्वव्यापिनमीश्वरं।  वक्ष्ये शिवमयं वर्म सर्वरक्षाकरं नृणाम् ॥३॥   शुचौ देशे समासीनो  यथावत्कल्पितासनः। जितेन्द्रियो जितप्राणश्चिन्तयेच्छिवमव्ययम् ॥४॥   हृत्पुण्डरीकान्तरसन्निविष्टं स्वतेजसाव्याप्तनभोवकाशम्। अतीन्द्रियं सूक्ष्ममनन्तमाद्यं ध्यायेत्परानन्दमयं महेशम् ॥५॥   … Read more

Amogh shiv kavach : शक्तिशाली अमोघ शिव कवच

Amogh shiv kavach : शक्तिशाली अमोघ शिव कवच   अमोघ शिव कवच बहुत की कल्याणकारी कवच है, इस कल्याणकारी एवं अति शीघ्र फल प्रदान करने वाले कवच  का कोई दूसरा सार ही नहीं है ।   किसी भी  प्रकार के शारीरिक ,मानसिक ,आर्थिक और  सामाजिक कष्टों से मुक्ति दिलाने में ये कवच अपना विशेष प्रभाव … Read more