चले भोले की नगरियाँ

शिव की लगन में कवाडिया चले भोले की नगरियाँ

काँधे पे रख के लाया रे भोले जल की गगरियाँ
जल की गगरियाँ गंगा जल की गगरियाँ
शिव की लगन में कवाडिया चले भोले की नगरियाँ
 
रिम झिम बादल बरसे बदरियाँ चम चम चमके भोले बिजुरियां
बम बम भोले बोल के देखो फिर भी चलते कावड़िया,
शिव की लगन में कवाडिया चले भोले की नगरियाँ
 
पाओ में मेरो पड़ गए है छाले दर्श दिखा दे तू भोले भाले
प्यासी है तेरे दर्शन को भोले मेरी नजरियाँ
शिव की लगन में कवाडिया चले भोले की नगरियाँ
 
है तू ही जल में है तू ही थल में
है तू ही तू भोले हर पल पल में
धरती के कं कं में दिखिती है भोले तेरी सूरतियाँ  
शिव की लगन में कवाडिया चले भोले की नगरियाँ




Leave a Comment

0 Shares
Share
Tweet
Share
Pin