दुर्गा देवी क्षमा प्रार्थना स्तोत्र 

अपराध सहस्राणि कृयन्थे आहर्निसं मया ।
 
दासो आयमिथि मां मथ्व क्शमस्व परमेश्वरि ॥१॥
 
 
आवजनं न जानामि, न जानामि विसर्जनम्,
 
पूजां चैव न जानामि, क्षंयथं अरमेश्वरि ॥२॥
 
 
मन्थ्रहीनम् , क्रियाहीनं, भक्थिहीनं, श्रुरेस्वरि ।
 
यतः पूजिथं मया देवी परिपूर्णं थादस्थुथे ॥३॥
 
 
आपराध स्थं क्रुथ्व जगदंबेथि चो उचरतः ।
 
यं गथिं संवप्नोथे न थां ब्रह्मदाय सुरा ॥४॥
 
 
सपरधोस्मि सरणं प्रथस्थ्वं जगदम्बिके ।
 
इधनी मनु कंप्योऽहं यदेच्छसि तदा कुरु ॥५॥
 
 
अज्ञान स्मृथेर्ब्रन्थ्य यन्यूनं अधिकं कर्थं ।
 
ततः सर्व क्षंयधं देवी प्रसीध परमेश्वरि ॥६॥
 
 
ख़मेश्वरि जगन्मथ सचिदनन्द विग्रहे ।
 
ग़्रहनर्चमीमम् प्रीथ्य प्रसीद परमेश्वरि ॥७॥
 
 
गुह्यधि गुह्य गोप्थ्री ग्रहण अस्मद कर्थं जपं ।
 
सिधिर भवथु मेय देवी थ्वत् प्रसादतः सुरेश्वरि ॥८॥
 
 
Devi Kshama Prarthana Stotram दुर्गा देवी क्षमा प्रार्थना स्तोत्र
दुर्गा देवी क्षमा प्रार्थना स्तोत्र

देवी क्षमा प्रार्थना स्तोत्र के लाभ

  • देवी क्षमा प्रार्थना स्तोत्र के लाभ का पाठ बहुत ही लाभदायक होता है
  • दुर्गा देवी क्षमा प्रार्थना स्तोत्र का पाठ करने से हर मनोकामना पूर्ण होती है
  • यह पाठ करने से किसी भी तरह का भय हो तो दूर हो जाता है
  • इस पाठ को करने से हर बीमारी से निजात मिलता है
  • यह पाठ बहुत चमत्कारी पाठ है
  • इस पाठ को सवछतापूर्वक करने से दुर्गा माता की असीम कृपा मिलती है

यह भी जरूर पढ़े:-


FAQ’S

  1. दुर्गा माता की पूजा किस दिन करनी चाहिए?

    दुर्गा माता की पूजा मंगलवॉर के दिन करनी चाहिए

  2. माँ दुर्गा का वाहन क्या है?

    माँ दुर्गा का वाहन शेर है


देवी क्षमा प्रार्थना स्तोत्र PDF


Leave a Comment

1 Shares
Share
Tweet
Share
Pin1