दिवाली 2022 पूजा कैसे करें | Diwali Puja Hindi mein

दिवाली 2022 पर दीवाली पूजा करने से देवी महालक्ष्मी का आशीर्वाद प्राप्त करने में मदद मिलती है और घर में समृद्धि, धन, स्वास्थ्य और बहुतायत को आमंत्रित किया जाता है।

दिवाली जीवन में अन्धकार से रौशनी की तरफ जाने का पर्व है ,इस दिन नए कपड़े, मिठाई, पटाखे, दीप और कई अन्य पूजा और अनुष्ठानों का भी एकत्योहार है।

लक्ष्मी पूजा दिवाली के त्यौहार का एक बहुत ही महत्वपूर्ण काम है यदि आप दिवाली वाले दिन अपने जीवन में कुछ सर्वश्रेष्ठ प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको लक्ष्मी माता को प्रसन्न कैसे किया जाता है इसे याद कर लेना चाहिए।

दिवाली के दिन देश के हर हिंदू घर में लक्ष्मी पूजा की जाती है। लक्ष्मी धन की देवी हैं। घर पर देवी लक्ष्मी को आमंत्रित करने के लिए शाम को लक्ष्मी पूजा की जाती है।

लोग प्रार्थना करते हैं और अपने परिवार के सदस्यों के जीवन में शांति, धन और समृद्धि की कामना करते हैं।


दिवाली 2022 पर लक्ष्मी पूजा का मुहूर्त कब है ?

लक्ष्मी पूजा मुहूर्त्त : 18:54:52 से 20:16:07 तक

अवधि : 1 घंटे 21 मिनट

प्रदोष काल : 17:43:11 से 20:16:07 तक

वृषभ काल : 18:54:52 से 20:50:43 तक

दिवाली 2022 महानिशीथ काल मुहूर्त

लक्ष्मी पूजा मुहूर्त्त : 23:40:02 से 24:31:00 तक

अवधि :
0 घंटे 50 मिनटमहानिशीथ काल :23:40:02 से 24:31:00 तक

सिंह काल :
25:26:25 से 27:44:05 तक

दिवाली 20220 शुभ चौघड़िया मुहूर्त

सायंकाल मुहूर्त्त (अमृत, चल): 17:29:35 से 19:18:46 तक

रात्रि मुहूर्त्त (लाभ): 22:29:56 से 24:05:31 तक

रात्रि मुहूर्त्त (शुभ, अमृत, चल): 25:41:06 से 30:27:51 तक

दिवाली पर क्यों करते है लक्ष्मी पूजा ?

दिवाली का त्योहार बुराई पर अच्छाई की जीत का जश्न मनाने के लिए है। भगवान राम लंका पर विजयी होकर अपने घर अयोध्या पहुंचे थे और इस ख़ुशी में अयोध्या बसियों ने उनका स्वागत पूरी अयोध्या नगरी को घी के दिए जलाकर पूरी अयोध्या रोशन कर दी थी | इसलिए आज भी दिवाली को दिए जलाने की परंपरा है |

यह वह समय है जब हम अपने दिमाग और दिल को ताज़ा करते हैं और नई आशाएं,आत्मविश्वास और ऊर्जा विकसित करते हैं जो हमारे आगे के जीवन के लिए एक नया चरण और गति पैदा करेगा।

भारतीय परंपरा का मानना है कि दिवाली के दौरान देवी महालक्ष्मी हर घर में भाग्य, धन और अन्य आशीर्वादों के बर्तन लेकर आती हैं।

दिवाली पर लक्ष्मी पूजा करने का सबसे अच्छा समय शाम है। लक्ष्मी पूजा के लिए सबसे अच्छा मुहूर्त शाम 6 बजे से 8 बजे के बीच हो सकता है और इसलिए आप इस अवधि के दौरान कभी भी पूजा कर सकते हैं। परन्तु हर दिवाली को पूजा करने के शुभ महूरत निकला जाता है जिसको की आप को जान लेना चाहिए |

दीवाली लक्ष्मी पूजा पर, नई खाता बही को पवित्र किया जाता है और सभी के द्वारा नए व्यावसायिक उपक्रमों के साथ एक नया वित्तीय वर्ष शुरू किया जाता है। इसके अलावा लोग अपने प्रियजनों के साथ उपहारों का आदान-प्रदान करते हैं और फिर शाम को लक्ष्मी पूजा के लिए इकट्ठा होते हैं।

यदि आप इस वर्ष घर पर दिवाली पूजा / लक्ष्मी पूजा करना चाहते हैं और लक्ष्मी पूजा कैसे करें यह नहीं जानते हैं, तो नीचे दी गयी विधि द्वारा आप अपने घर में लक्ष्मी पूजा कर सकते है ।


दिवाली पूजा विधि: निचे दी गयी विधि से आप अपने घर में बैठकर सरल तरीके से दिवाली पूजा कर सकते है

diwali 2022 ki puja kaise karni hai
Diwali 2022 Par Mata Lakshmi aur Ganesh ji ki Puja Vidhi
  • दिवाली पूजा विधि चरण 1: अपने घर को शुद्ध करें :

दिवाली की सफाई बहुत जरूरी है। अपने घर के हर कोने को साफ करें। सफाई के बाद, आसपास को शुद्ध करने के लिए गंगाजल (गंगा नदी का पवित्र जल) छिड़कें।

  • दिवाली पूजा विधि चरण 2: पूजा के लिए पूजा स्थान को चुने :


अपने पूजा कक्ष/लिविंग रूम में टेबल/स्टूल पर लाल सूती कपड़ा बिछाएं और बीच में मुट्ठी भर अनाज रखें।

  • दिवाली पूजा विधि चरण 3: एक कलश रखें :


कलश (चांदी/कांस्य का बर्तन) को अनाज के बीच में रखें। कलश में 75% पानी भरकर एक सुपारी (सुपारी), एक गेंदा का फूल, एक सिक्का और कुछ चावल के दाने डाल दें। कलश पर 5 आम के पत्ते गोलाकार आकार में रखें।

  • दिवाली पूजा विधि चरण 4: पूजा के लिए लक्ष्मी और गणेश की मूर्ति रखें :


केंद्र में देवी लक्ष्मी की मूर्ति और कलश के दाहिनी ओर (दक्षिण-पश्चिम दिशा) में भगवान गणेश की मूर्ति रखें। एक छोटी थाली लें और चावल के दानों का एक छोटा सा सपाट पहाड़ बनाएं, हल्दी से कमल का फूल बनाएं, कुछ सिक्के डालें और मूर्ति के सामने रखें।

  • दीवाली पूजा विधि चरण 5: खाता बही/धन से संबंधित सामान रखें


अब अपने व्यापार/लेखा पुस्तक और अन्य धन/व्यवसाय से संबंधित वस्तुओं को मूर्ति के सामने रखें।

  • दिवाली पूजा विधि चरण 6: तिलक लगाएं और दीया जलाएं


अब देवी लक्ष्मी और भगवान गणेश को तिलक करें और दीपक जलाएं। कलश पर भी तिलक लगाएं।

  • दिवाली पूजा विधि चरण 7: फूल चढ़ाएं


अब भगवान गणेश और लक्ष्मी को फूल चढ़ाएं। पूजा के लिए अपनी हथेली में कुछ फूल रखें।
शुरुआत गणपति पूजा से करें। भगवान गणेश को फूल, नारियल और फल चढ़ाएं।


लक्ष्मी पूजा के लिए आगे बढ़ें। देवी लक्ष्मी को नारियल और फल चढ़ाएं। मूर्ति के सामने साष्टांग प्रणाम करें और परिवार के कल्याण के लिए प्रार्थना करें।

  • दिवाली पूजा विधि चरण 8: पूजा मंत्र का पाठ करें


अपनी हथेली में फूल रखें और अपने हाथों को प्रार्थना मोड में जोड़ लें, अपनी आंखें बंद करें और दिवाली पूजा मंत्र का पाठ करें। पूजा के बाद हथेली में रखे फूल को गणेश और लक्ष्मी को अर्पित करें।

  • दिवाली पूजा विधि चरण 9: जल अर्पित करें


एक लक्ष्मी की मूर्ति लें और उसे पानी से स्नान कराएं और उसके बाद पंचामृत से स्नान कराएं। इसे फिर से पानी से स्नान कराएं, एक साफ कपड़े से पोछें और वापस कलश पर रख दें।

  • दिवाली पूजा विधि चरण 10: माला चढ़ाएं


मूर्ति पर हल्दी, कुमकुम और चावल डालें। माला को देवी के गले में लगाएं। अगरबत्ती जलाएं और मूर्ति के सामने शौपिंग करें।

  • दिवाली पूजा विधि चरण 11: फल और मिठाई अर्पित करें


नारियल, सुपारी, पान का पत्ता लेकर देवी को अर्पित करें। देवी को फल और मिठाई का भोग लगाएं। मूर्ति के सामने कुछ फूल और सिक्के रखें।

  • दिवाली पूजा विधि चरण 12: लक्ष्मी आरती करें


थाली में दीया लें, पूजा की घंटी बजाएं और लक्ष्मी माता की आरती करें।


Leave a Comment

2 Shares
Share
Tweet
Share
Pin2