गणेश स्तुति 

श्लोक
 
ॐ गजाननं भूंतागणाधि सेवितम्, कपित्थजम्बू फलचारु भक्षणम्।
उमासुतम् शोक विनाश कारकम्, नमामि विघ्नेश्वर पादपंकजम्॥
 
 
गाइये गनपति जगबंदन।
संकर-सुवन भवानी नंदन ॥ 1 ॥
 
गाइये गनपति जगबंदन।
 
सिद्धि-सदन, गज बदन, बिनायक।
कृपा-सिंधु, सुंदर सब-लायक ॥ 2 ॥
 
गाइये गनपति जगबंदन।
 
मोदक-प्रिय, मुद-मंगल-दाता।
बिद्या-बारिधि, बुद्धि बिधाता ॥ 3 ॥
 
गाइये गनपति जगबंदन।
 
मांगत तुलसिदास कर जोरे।
बसहिं रामसिय मानस मोरे ॥ 4 ॥
 
गाइये गनपति जगबंदन।

 

श्री गणेश स्तुति
श्री गणेश स्तुति

Ganesh Stuti PDF


Leave a comment