हनुमान जंजीरा मंत्र | सर्व कार्य-सिद्धि जंजीरा मंत्र

हनुमान जी के एक मंत्र के बारे में विस्तार से बताया गया है,जिसे हनुमान जंजीरा मंत्र के नाम दिया गया है। ये मंत्र बहुत ही शक्तिशाली एबं प्रभावशाली मंत्र है।

हर रोज़ हनुमान चालीसा पाठ करने के बाद इस मंत्र का जप भी करना चाहिए।

हनुमान हिन्दु धर्म में संकटमोचक देवता है | हनुमान जी का नाम मात्र लेने से डर और चिंता का निवारण हो जाता है लेकिन फिर भी अति संकट आने पर हनुमान चालिसा को सबसे प्रभावशाली मंत्र माना जाता है |

हनुमान चालिसा के अतिरिक्त हनुमान जी की पूजा अर्चना के लिए बहुत सारे मंत्र और पाठ है | इन मन्त्रों का जाप करने से हनुमान जी शीग्र प्रार्थना स्वीकार करते है और कष्ट निवारण करते है |

एक मंत्र ऐसा है जो मात्र एक माला से ही सिद्ध हो जाता है, “हनुमान जंजीरा” नामक यह मंत्र आसान और शक्तिशाली है |


सर्व कार्य-सिद्धि हनुमान जंजीरा मंत्र

ॐ हनुमान पहलवान पहलवान, बरस बारह का जबान,
हाथ में लड्‍डू मुख में पान, खेल खेल गढ़ लंका के चौगान,
अंजनी‍ का पूत, राम का दूत,
छिन में कीलौ नौ खंड का भू‍त, जाग जाग हड़मान हुँकाला,
ताती लोहा लंकाला, शीश जटा डग डेरू उमर गाजे,
वज्र की कोठड़ी ब्रज का ताला, आगे अर्जुन पीछे भीम,
चोर नार चंपे ने सींण, अजरा झरे भरया भरे,
ई घट पिंड की रक्षा राजा रामचंद्र जी लक्ष्मण कुँवर हड़मान करें।


हनुमान जंजीरा के लाभ

इस मंत्र का जाप करने से साधक की सभी तरह से रक्षा होती है। इस मंत्र के प्रभाव से सभी प्रकार की ऊपरी बाधाएं जैसे भूत प्रेत, पिशाच , डाकीनी, शाकिनी आदि सभी प्रकार की समस्याएं तुरंत खत्म हो जाती है |

इस मंत्र के सिद्ध हो जाने से साधक स्वयं के साथ दुसरो को भी इसका लाभ पहुंचा सकता है।

यह एक शाबर मंत्र है जो तुरंत असर करता है । मंत्र की परीक्षा लेने के उघेश्य से यह मंत्र का प्रयोग न करें। किसी भी गलत भावना से प्रेरित होकर इस मंत्र का जाप नहीं करना चाहिए | इस मंत्र का उच्चारण सही ढंग से और शुद्ध भावना से करना चाहिए | यह रक्षा मंत्र है और आप हनुमान जी से अपनी रक्षा की प्रार्थना अपने आपको हनुमान जी की सेवा में समर्पण भाव से करें | इसका लाभ आपको अवश्य मिलेगा |

Leave a Comment

0 Shares
Share
Tweet
Share
Pin
Share