हरे कृष्ण महामंत्र

हरे कृष्ण हरे राम महा मंत्र तीन संस्कृत शब्दों से बना है, जो “हरे”, “कृष्ण” और “राम” हैं। शास्त्रों के अनुसार “जो इस मंत्र का निरंतर जाप करते हैं उनके जीवन में कभी भी विघ्न बाधा नहीं आ सकती है । इस मंत्र का जाप करने से मानसिक रूप से जीवन में शांति मिलती है और हर कार्य में संतुष्टि मिलती है।

हरे कृष्ण मंत्र महामंत्र इस प्रकार है

हरे कृष्ण हरे कृष्ण , कृष्ण कृष्ण हरे हरे |
हरे राम हरे राम, राम राम हरे हरे ||

इस मंत्र का उच्चारण इस प्रकार है, ह-रे, कृष-ना और रा-म। यह महामंत्र आपको सीधे ईश्वर से जोड़ता है। यह बहुत ही सरल मंत्र है इस मंत्र का नित्य जाप करने से आपके जीवन में पवित्र या दैवीय प्रभाव पैदा कर देता है।

“सोलह शब्द – हरे कृष्ण, हरे कृष्ण, कृष्ण कृष्ण, हरे हरे , हरे राम, हरे राम, राम राम, हरे हरे – विशेष रूप से काली के क्रोधित होने पर प्रतिकार करने के लिए हैं। माँ काली के कल्मष से बचने के लिए सभी वेदों में इन सोलह शब्दों के जप के अतिरिक्त और कोई विकल्प नहीं है।

यह मंत्र एक महान पवित्र और भक्ति मंत्र है; इसका उपयोग भगवान कृष्ण और राम की पूजा के लिए किया जाता है। यह कोई साधारण मंत्र नहीं है, इसे वेद, पुराण और पवित्र ग्रंथों के अनुसार सोलह शब्दों का महा-मंत्र माना गया है।

हरे कृष्ण हरे राम महा-मंत्र मस्तिष्क की शक्ति को बढ़ाने में मदद करता हैं कि, ध्यान लगाने के लिए यह सबसे अच्छा ध्यान मंत्र है। इस मंत्र के जाप से आपके जीवन में शांति, सुख, धन और एकाग्रता की प्राप्ति होती है।

हरे कृष्णा हरे राम महामंत्र ध्यान विधि

हरे कृष्णा हरे राम महामंत्र का ध्यान करने के लिए सबसे पहले एक पवित्र आसन पर उत्तर या पूर्व दिशा की ओर मुख करके आराम से बैठ जाएं। इसके बाद अपनी आंखें बंद कर लें और भगवान कृष्ण और राम में ध्यान लगाएं। अब इस महामंत्र का धार्मिक भाव से धीरे-धीरे जप करें। ध्यान के प्रभाव को महसूस करने के लिए आपको कम से कम एक घंटे तक इस मंत्र का जप करना चाहिए।

मनोकामना पूर्ति और सफलता प्राप्ति के लिए इसका एक दिन में 108 बार जप या पाठ करना चाहिए।

हरे कृष्ण मंत्र का क्या अर्थ है?

हरे कृष्ण मंत्र का क्या अर्थ है की हम भगवान से यह प्रार्थना कर रहे है और उनका आध्यात्मिक आह्वान है, जिसका अर्थ है, “हे भगवान, मेरे अन्दर ऐसी ऊर्जा भर दें की मैं हमेशा भगवान कृष्ण और राम के ध्यान में रहूं, आप मुझे भगवान कृष्ण की प्रेममयी सेवा में संलग्न करें।”

तीन शब्द – अर्थात् हरे, कृष्ण और राम – महामंत्र के पारलौकिक बीज हैं, और जप बद्ध आत्माओं को सुरक्षा देने के लिए भगवान और उनकी आंतरिक ऊर्जा, हरे के लिए आध्यात्मिक आह्वान है। यह जप बिल्कुल वैसा ही है जैसे बच्चे द्वारा अपनी मां के लिए वास्तविक रोना। माता हर परम पिता हरि या कृष्ण की कृपा प्राप्त करने में मदद करती हैं, और भगवान ऐसे सच्चे भक्तों के लिए स्वयं को प्रकट करते हैं।

हरे कृष्ण का यह जप सीधे आध्यात्मिक विधि से किया जाता है, जो चेतना के सभी निचले स्तरों, अर्थात् कामुक, मानसिक और बौद्धिक को पार करता है। मंत्र की भाषा को समझने की आवश्यकता नहीं है, न ही मानसिक अनुमानों की आवश्यकता है, न ही इस महा-मंत्र को जपने के लिए किसी बौद्धिक समायोजन की आवश्यकता है।

यह मंत्र सरल भी है और इसको सिद्ध करने की कोई विधि नहीं है, और इसलिए कोई भी इस पारलौकिक ध्वनि में बिना किसी पूर्व योग्यता के भाग ले सकता है और परमानंद में नृत्य कर सकता है।

हरे शब्द भगवान को संबोधित करने का एक तरीका है। कृष्ण और राम दोनों सीधे भगवान को संबोधित करने के रूप हैं, और उनका अर्थ है “सर्वोच्च आनंद।” हरे भगवान की परम आनंद को प्राप्त करने की शक्ति है। हरे के रूप में सम्बोधित यह शक्ति हमें सर्वोच्च भगवान तक पहुँचने में मदद करती है।

hare krishna hare ram mantra हरे कृष्ण महामंत्र हरे कृष्ण महामंत्र | Hare Krishna Hare Ram Mantra
Hare Krishna Hare Ram Mahamantra