जब खाए भांग के लड्डू -jab khaaye bhaang ke laddu

अरे रे रे जब खाए भांग के लड्डू सावन में चड गया जादू,




ये भोले मस्ती में झूले जब कावड काँधे में झूले
गंगा में डूबकी ला दू सावन में चड गया जादू
अरे रे रे जब खाए भांग के लड्डू सावन में चड गया जादू,

कोई नील कंठ कोई हरिद्वार में
बम बम गूंजे सारे संसार में,
छाती पे भोला छिपवा दू सावन में चड गया जादू
अरे रे रे जब खाए भांग के लड्डू सावन में चड गया जादू,

कावड़िया भुट्टी पी नाचे जब गाडी में दी जे भाजे
या गोलियां मैं तेज बना दू सावन में चड गया जादू
अरे रे रे जब खाए भांग के लड्डू सावन में चड गया जादू,

सचिन भैया लिखता गाना
रेहता सोनी पत हरयाना
सोनू से जद मिलवा दू सावन में चड गया जादू
अरे रे रे जब खाए भांग के लड्डू सावन में चड गया जादू,


singersonu kaushik




Leave a Comment

0 Shares
Share
Tweet
Share
Pin