काल भैरव स्तुति 

 
यं यं यं यक्षरूपं दशदिशिविदितं भूमिकम्पायमानं
सं सं संहारमूर्तिं शिरमुकुटजटाशेखरं चन्द्रबिम्बम्।।
 
दं दं दं दीर्घकायं विकृतनखमुखं चोर्ध्वरोमं करालं
पं पं पं पापनाशं प्रणमत सततं भैरवं क्षेत्रपालम् ।। १ ।।
 
रं रं रं रक्तवर्णं कटिकटिततनुं तीक्ष्णदंष्ट्राकरालं
घं घं घं घोषघोषं घ घ घ घ घटितं घर्घरं घोरनादम्।।
 
कं कं कं कालपाशं धृकधृकधृकितं ज्वालितं कामदेहं
तं तं तं दिव्यदेहं प्रणमत सततं भैरवं क्षेत्रपालम् ।। २ ।।
 
 
लं लं लं लं वदन्तं ल ल ल ल ललितं दीर्घजिह्वाकरालं
धुं धुं धुं धूम्रवर्णं स्फुटविकटमुखं भास्करं भीमरूपम्।।
 
रुं रुं रुं रुण्डमालं रवितमनियतं ताम्रनेत्रं करालं
नं नं नं नग्नभूषं प्रणमत सततं भैरवं क्षेत्रपालम् ।। ३ ।।
 
वं वं वं वायुवेगं नतजनसदयं ब्रह्मपारं परं तं
खं खं खं खड्गहस्तं त्रिभुवननिलयं भास्करं भीमरूपम्।।
 
चं चं चं चं चलित्वा चलचलचलितं चालितं भूमिचक्रं
मं मं मं मायिरूपं प्रणमत सततं भैरवं क्षेत्रपालम् ।। ४ ।।
 
शं शं शं शङ्खहस्तं शशिकरधवलं मोक्षसंपूर्णतेजं
मं मं मं मं महान्तं कुलमकुलकुलं मन्त्रगुप्तं सुनित्यम्।।
 
यं यं यं भूतनाथं किलिकिलिकिलितं बालकेलिप्रधानं
अं अं अं अन्तरिक्षं प्रणमत सततं भैरवं क्षेत्रपालम् ।। ५ ।।
 
 
खं खं खं खड्गभेदं विषममृतमयं कालकालं करालं
क्षं क्षं क्षं क्षिप्रवेगं दहदहदहनं तप्तसन्दीप्यमानम्।।
 
हौं हौं हौंकारनादं प्रकटितगहनं गर्जितैर्भूमिकम्पं
बं बं बं बाललीलं प्रणमत सततं भैरवं क्षेत्रपालम् ।। ६ ।।
 
सं सं सं सिद्धियोगं सकलगुणमखं देवदेवं प्रसन्नं
पं पं पं पद्मनाभं हरिहरमयनं चन्द्रसूर्याग्निनेत्रम्।।
 
ऐं ऐं ऐश्वर्यनाथं सततभयहरं पूर्वदेवस्वरूपं
रौं रौं रौं रौद्ररूपं प्रणमत सततं भैरवं क्षेत्रपालम् ।। ७ ।।
 
हं हं हं हंसयानं हपितकलहकं मुक्तयोगाट्टहासं
धं धं धं नेत्ररूपं शिरमुकुटजटाबन्धबन्धाग्रहस्तम्।।
 
टं टं टं टङ्कारनादं त्रिदशलटलटं कामवर्गापहारं
भृं भृं भृं भूतनाथं प्रणमत सततं भैरवं क्षेत्रपालम् ।। ८ ।।
 
 
इत्येवं कामयुक्तं प्रपठति नियतं भैरवस्याष्टकं यो
निर्विघ्नं दुःखनाशं सुरभयहरणं डाकिनीशाकिनीनाम्।।
 
नश्येद्धिव्याघ्रसर्पौ हुतवहसलिले राज्यशंसस्य शून्यं
सर्वा नश्यन्ति दूरं विपद इति भृशं चिन्तनात्सर्वसिद्धिम् ।। ९ ।।
 
भैरवस्याष्टकमिदं षण्मासं यः पठेन्नरः।।
स याति परमं स्थानं यत्र देवो महेश्वरः ।। १० ।।
 
Bhairav Stuti काल भैरव स्तुति
 

काल भैरव स्तुति के लाभ

  • काल भैरव स्तुति करने से हर बाधाएं दूर होती है
  • काल भैरव स्तुति करने से हर मनोकामना पूर्ण होती है
  • यह पाठ रविवार के दिन करना चाहिए
  • काल भैरव जी की पूजा रात में होती है
  • यह पाठ करने से भय भी दूर होता है
  • इस पाठ को करने से जादू -टोनो का भी असर ख़तम होता है
  • आपका कोई भी काम रुका हुआ हो तो उसका भी समाधान हो जाता है
  • काल भैरव स्तुति का पाठ करने से पापो का अंत होता है

यह भी जरूर पढ़े:-


FAQ’S

  1. काल भैरव कौन से भगवन का अवतार है?

    काल भैरव शिवजी जी के अवतार है

  2. काल भैरव जी को क्या पसंद है ?

    काल भैरव जी जलेबी और नारियल का प्रसाद चढ़ाना चाहिए


काल भैरव स्तुति PDF


Leave a Comment

1 Shares
Share
Tweet
Share
Pin1