Lokabiramam Ranrangdhiram Rajiv Netra | लोकाभिरामं रणरङ्गधीरं राजीवनेत्रं

श्रीराम प्रभु के जीवन की सबसे बड़ी सीख है कि किस प्रकार संघशक्ति द्वारा बुराई पर अच्छाई की, अधर्म पर धर्म की जीत संभव है । श्रीराम हमें प्रत्येक परिस्तिथि में जीना सिखाते हुए मर्यादा पूर्ण जीवन जीने की सीख देती है ।

निचे लिखा हुआ श्लोक बहुत ही सुन्दर और प्रभु के चरणों में बंधना है | आप अपने प्रभु राम की शरण में है |

लोकाभिरामं रणरङ्गधीरं राजीवनेत्रं रघुवंशनाथम् ।
कारुण्यरुपं करुणाकरंतं श्रीरामचंद्रं शरणं प्रपद्ये ॥

श्लोक का अर्थ : मैं सम्पूर्ण लोकों में सुन्दर तथा रणक्रीडा में धीर, कमलनेत्र, रघुवंश नायक, करुणा की मूर्ति और करुणा के भण्डार रुपी श्रीराम जी की शरण में हूं |

Lokabhiramam Video Credit
SINGER: Vinod Rathod
MUSIC: Pushpa – Arun Adhikari
लोकाभिरामं
स्वरः विनोद राठोड
संगीतः पुष्पा अरुण अधिकारी


Leave a Reply