पीला दे भंगियाँ गोरा आज-peela de bhangiya gora aaj




बारिश हो रही मंदी मंदी पुरवा चल रही ठंडी ठंडी

है मोसम काफी मस्त मिजाज
पीला दे भंगियाँ गोरा आज

घोटट तेरी भंगियाँ पड़ गए छाले गीसी उंगलियाँ
हुए है घ्याल दोनों हाथ
ना घोटू भंगियाँ भोले नाथ

तोला बना दे घोट घाट के काजू पिस्ता ढाल छांट के
तुझसे नाता तोड़ ताड़ के पीहर चली तुम्हे छोड़ छाड़ के
दिखावे मत तेड़ो अंदाज
पीला दे भंगियाँ गोरा आज

हाथो के सब शाले फूटे दर्द के मारे छके छुटे,
गोरा मुझसे भांग न छुटे तू रूठे चाहे दुनिया रूठे
दिया न दुःख में मेरा साथ
पीला दे भंगियाँ गोरा आज ना घोटू भंगियाँ भोले नाथ

लिखे अनाडी गाये चोधरी
जल्दी से मेरी भांग घोट री,
गई भारी भांग से गई गोठरी
देख देख मेरी घुमे खोपड़ी  
क्यों होती खामा खा नाराज
पीला दे भंगियाँ गोरा आज
credit
singer:-Sonotek Owner:- Hansraj Railhan, Krishan Railhan, Rajesh Thukral, Ankit Vij
Office Number:- 011-23268079
Music Label & Copyrights :- Sonotek Cassettes




Leave a Comment

0 Shares
Share
Tweet
Share
Pin