कृणुष्व पाजः प्रसितिम् न पृथ्वीम् याही राजेव अमवान् इभेन।
 
तृष्वीम् अनु प्रसितिम् द्रूणानो अस्ता असि विध्य रक्षसः तपिष्ठैः॥

 
तव भ्रमासऽ आशुया पतन्त्यनु स्पृश धृषता शोशुचानः।
 
तपूंष्यग्ने जुह्वा पतंगान् सन्दितो विसृज विष्व-गुल्काः॥

 
प्रति स्पशो विसृज तूर्णितमो भवा पायु-र्विशोऽ अस्या अदब्धः।
 
यो ना दूरेऽ अघशंसो योऽ अन्त्यग्ने माकिष्टे व्यथिरा दधर्षीत्॥

 
उदग्ने तिष्ठ प्रत्या-तनुष्व न्यमित्रान् ऽओषतात् तिग्महेते।
 
यो नोऽ अरातिम् समिधान चक्रे नीचा तं धक्ष्यत सं न शुष्कम्॥

 
ऊर्ध्वो भव प्रति विध्याधि अस्मत् आविः कृणुष्व दैव्यान्यग्ने।
 
अव स्थिरा तनुहि यातु-जूनाम् जामिम् अजामिम् प्रमृणीहि शत्रून्।
 
|| अग्नेष्ट्वा तेजसा सादयामि॥

 

Pitru Kavach

 

 


पितृ कवच के लाभ

  • पितृ कवच का पाठ पितरो को प्रसन करने वाला होता है
  • पितृ कवच का पाठ करने से पितरो का आशीर्वाद प्राप्त होता है
  • श्राद पक्ष में रोज़ इस कवच का पाठ करने से पितृ शुभ फल देते है
  • अगर पितृ दोष है तोह यह कवच करने से पितृ दोष की समाप्ति होती है
  • यह पाठ बहुत ही चमत्कारी है
  • श्राद अमावस्या या पूर्णिमा की शाम तेल का दीपक जलाकर यह पाठ करना चाहिए
  • पितृ कवच का पाठ करने से पितृ दोष से शांति मिलती है और हर संकट दूर होता है

यह भी जरूर पढ़े:-


FAQ’S

  1. घर में पितृ दोष का कैसे पता लगाए?

    पितृ दोष के कारण संतान सुख प्राप्त नहीं होता
    कारोबार में हानि होती है
    परिवार में हमेशा कलेश रहता है
    घर में कोई न कोई बीमार रहता है

  2. पितृ विसर्जन कब है 2022 में?

    पितृ विसर्जन 25 सितम्बर 2022 को है

  3. श्राद कब है 2022 में?

    श्राद 10 सितंबर 2022 से 25 सितंबर 2022 तक है


पितृ कवच PDF


Leave a Comment

1 Shares
Share
Tweet
Share
Pin1