रुखी सुखी रोटी भोले खाइयो मेरे हाथ से- rukhi sukhi roti bhole khaiyo mere hath se

रुखी सुखी रोटी भोले खाइयो मेरे हाथ से,
सुल्फा गांजा भांग धतुरा मेरे को ना भात से
रुखी सुखी रोटी भोले खाइयो मेरे हाथ से,

देशी रोटी घर में भोले खइयो बड़े चाव से
भंगियाँ न मिलेगी भोले लस्सी मठा ठाठ से
मार पालकी बेठ के भोले जीमू बड़े ठाठ से



रुखी सुखी रोटी भोले खाइयो मेरे हाथ से,


राह निहारु कब से भोले देखू तेरी बाट से
जिस दिन घर आवो गे भोले बन जावे की बात से
आगड़ पड़ोसी तब देखे गे रिश्ता तुझसे खास है
रुखी सुखी रोटी भोले खाइयो मेरे हाथ से,

उड़ चटकनी से रोटी भोले लागे धनी प्यारी से
देखोगे अगर जाके भोले अब के बारी मेरी से
रणजीत की तुम सुन ले भोले वो तो पालनहार से
रुखी सुखी रोटी भोले खाइयो मेरे हाथ से,




Leave a Comment

0 Shares
Share
Tweet
Share
Pin