श्री सूर्याष्टकम्

Table of Contents

 
॥ सूर्याष्टकम् ॥
 
श्रीगणेशाय नमः ।
 
प्रभाते यस्मिन्नभ्युदितसमये कर्मसु नृणां,
 
प्रवर्तेद्वै चेतो गतिरपि च शीतापहरणम् ।

 
गतो मैत्र्यं पृथ्वीसुरकुलपतेर्यश्च तमहं,
 
नमामि श्रीसूर्यं तिमिरहरणं शान्तशरणम् ॥ १॥

 
त्रिनेत्रोऽप्यञ्जल्या सुरमुकुटसंवृष्टचरणे,
 
बलिं नीत्वा नित्यं स्तुतिमुदितकालास्तसमये ।

 
निधानं यस्यायं कुरुत इति धाम्नामधिपति,
 
नमामि श्रीसूर्यं तिमिरहरणं शान्तशरणम् ॥ २॥

 
मृगाङ्के मूर्तित्वं ह्यमरगण भर्ताकृत इति,
 
नृणां वर्त्मात्मात्मोक्षिणितविदुषां यश्च यजताम् ।

 
क्रतुर्लोकानां यो लयभरभवेषुप्रभुरयं,
 
नमामि श्रीसूर्यं तिमिरहरणं शान्तशरणम् ॥ ३॥
 
 
दिशः खं कालो भूरुदधिरचलं चाक्षुषमिदं,
 
विभागो येनायं निखिलमहसा दीपयति तान् ।

 
स्वयं शुद्धं संविन्निरतिशयमानन्दमजरं,
 
नमामि श्रीसूर्यं तिमिरहरणं शान्तशरणम् ॥ ४॥

 
वृषात्पञ्चस्वेत्यौढयति दिनमानन्दगमनस्-,
 
तथा वृद्धिं रात्रैः प्रकटयति कीटाज्जवगतिः ।

 
तुले मेषे यातो रचयति समानं दिननिशं,
 
नमामि श्रीसूर्यं तिमिरहरणं शान्तशरणम् ॥ ५॥

 
वहन्ते यं ह्यश्वा अरुणविनि युक्ताः प्रमुदितास्-,
 
त्रयीरूपं साक्षाद्दधति च रथं मुक्तिसदनम् ।

 
नजीवानां यं वै विषयति मनो वागवसरो,
 
नमामि श्रीसूर्यं तिमिरहरणं शान्तशरणम् ॥ ६॥
 
 
तथा ब्रह्मा नित्यं मुनिजनयुता यस्य पुरतश्-,
 
चलन्ते नृत्यन्तोऽयुतमुत रसेनानुगुणितं ।

 
निबध्नन्ती नागा रथमपि च नागायुतबला ,
 
नमामि श्रीसूर्यं तिमिरहरणं शान्तशरणम् ॥ ७॥

 
प्रभाते ब्रह्माणं शिवतनुभृतं मध्यदिवसे,
 
तथा सायं विष्णुं जगति हितकारी सुखकरम् ।

 
सदा तेजोराशिं त्रिविवमथ पापौघशमनं,
 
नमामि श्रीसूर्यं तिमिरहरणं शान्तशरणम् ॥ ८॥

 
मतं शास्त्राणां यत्तदनु रघुनाथेन रचितं,
 
शुभं चुंराग्रामे तिमिरहरसूर्याष्टकमिदम् ।

 
त्रिसन्ध्यायां नित्यं पठति मनुजोऽनन्यगतिमांश्-,
 
चतुर्वर्गप्राप्तौ प्रभवति सदा तस्य विजयम् ॥ ९॥
 
 
नन्देन्द्वङ्क्क्षितावब्दे मार्गमासे शुभे दले ।
 
सूर्याष्टकमिदं प्रोक्तं दशम्यां रविवासरे ॥ १०॥

 
|| इति श्रीपण्डितरघुनाथशर्मणा विरचितं श्रीसूर्याष्टकं सम्पूर्णम् ।|

surya ashtakam in hindi

Surya Ashtakam Benefits in Hindi

मैं आपको ( सूर्य देव ) को नमन करता हूं, जो दुनिया को अपनी ऊर्जा से आशीर्वाद देते हैं जो लोगों को बीमारियों से छुटकारा दिलाने में मदद करते हैं, हे ब्रह्मांड के शासक, हमें लंबे जीवन, अच्छे स्वास्थ्य और धन का आशीर्वाद दें।

इस अष्टकम का जाप करके आप अपने मन को शांत कर सकते हैं और भीतर भगवान की उपस्थिति को महसूस कर सकते हैं। इसके अलावा, आप अपने मन और शरीर में शरण लेने वाली नकारात्मकताओं से लड़ने के लिए ऊर्जा प्राप्त कर सकते हैं।

क्या आप सूर्य के बिना पृथ्वी पर जीवन की कल्पना कर सकते हैं? पूरी पृथ्वी अंधेरे में डूब जायेगा और बर्फ की गेंद में बदल जाएगा। इसलिए, जीवन को बनाए रखने और समृद्ध होने के लिए, पृथ्वी को सूर्य देव के आशीर्वाद की आवश्यकता है।

इसलिए यह कहना गलत नहीं होगा कि सूर्य नित्य है और उससे प्राप्त होने वाले लाभ चिरस्थायी हैं। दिलचस्प बात यह है कि हिंदुओं का मानना ​​​​है कि सूर्य भगवान की अभिव्यक्तियों में से एक है और एकमात्र देवता है जिसे देखा जा सकता है। इसलिए, सूर्य देव एक हिंदू के जीवन में एक आवश्यक स्थान रखता है।

सूर्य देव शक्ति और ऊर्जा का प्रतीक है | जीवन में अन्धकार को ख़तम करना है तो सूर्य देव सप्रार्थना करनी चाहिए | सूर्य स्तोत्र या सूर्य स्तुति का नित्य पाठ करें | आप के जीवन में चमत्कारी तरीके से लाभ होगा |

कई भक्त नियमित रूप से सुबह सूर्य भगवान को जल चढ़ाते हैं। वे कलश से जल चढ़ाते समय अपने घर परिवार की सलामती की प्रार्थना भी करते थे। यह सूर्य देव की कृतज्ञता व्यक्त करने के लिए एक कार्य है और साथ ही सूर्य देव को अपनी सुकून देने वाली किरणों से पृथ्वी पर बरसाने के लिए आभार है ।


Leave a Comment

1 Shares
Share
Tweet
Share
Pin1