श्री तुलसी नामाष्टक

वृंदा,वृन्दावनी,विश्वपुजिता,विश्वपावनी |
 
पुष्पसारा,नंदिनी च तुलसी,कृष्णजीवनी ||
 
 
एत नाम अष्टकं चैव स्त्रोत्र नामार्थ संयुतम |
 
य:पठेत तां सम्पूज्य सोभवमेघ फलं लभेत ||
 
 Tulsi Namashtakam श्री तुलसी नामाष्टक
श्री तुलसी नामाष्टक

श्री तुलसी नामाष्टक के लाभ

  • श्री तुलसी नामाष्टक मंत्र का जाप करने से धन में वृद्धि होती है
  • श्री तुलसी नामाष्टक मंत्र का जाप करने से सुख समृद्धि की प्राप्ति होती है
  • इस मंत्र का जाप करने से हर बीमारी से निजात मिलता है
  • इस मंत्र का जाप करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है
  • तुलसी किसी पूजा या श्राद्ध दोनों में इस्तेमाल की जाती है
  • इस मंत्र का जाप तुलसी माता के सामने बैठकर करना चाहिए

श्री तुलसी नामाष्टक मंत्र जाप की विधि

  • एकादशी या शुक्रवार के दिन सुबह स्नान करके
  • तुलसी की पूजा करे और परिक्रमा करे
  • तुलसी जी के सामने घी का दीपक जलाये
  • तुलसी की माला से 108 बार श्री तुलसी नामाष्टक मंत्र का जाप करे
  • रविवार के दिन तुलसी की पूजा और तुलसी नहीं तोड़नी चाहिए

यह भी जरूर पढ़े:-


FAQ’S

  1. तुलसी का दूसरा नाम क्या है?

    तुलसी का दूसरा नाम पवित्र तुलसी है

  2. तुलसी के नाम का क्या अर्थ है?

    तुलसी के नाम का अर्थ पवित्र संयंत्र है

  3. तुलसी किनका अवतार है?

    तुलसी महालक्ष्मी जी का अवतार है


श्री तुलसी नामाष्टक PDF


Leave a Comment

1 Shares
Share
Tweet
Share
Pin1