Shankar Mahadev ji ki Aarti || शंकर महादेव जी की आरती

Mahadev ji ki Aarti – Har Har Mahadev  हर हर हर महादेव ! सत्य, सनातन, सुन्दर, शिव सबके स्वामी। अविकारी अविनाशी, अज अन्तर्यामी॥ हर हर हर महादेव ! आदि, अनन्त, अनामय, अकल, कलाधारी। अमल, अरूप, अगोचर, अविचल, अघहारी॥   हर हर हर महादेव ! ब्रह्मा, विष्णु, महेश्वर तुम त्रिमूर्तिधारी। कर्ता, भर्ता, धर्ता, तुम ही संहारी॥ … Read more

एकादशी माता की आरती || Ekadashi Mata Ki Aarti

 ॐ जय एकादशी, जय एकादशी, जय एकादशी माता । विष्णु पूजा व्रत को धारण कर, शक्ति मुक्ति पाता ।। ॐ।। तेरे नाम गिनाऊं देवी, भक्ति प्रदान करनी । गण गौरव की देनी माता, शास्त्रों में वरनी ।।ॐ।। मार्गशीर्ष के कृष्णपक्ष की उत्पन्ना, विश्वतारनी जन्मी। शुक्ल पक्ष में हुई मोक्षदा, मुक्तिदाता बन आई।। ॐ।। पौष के … Read more

Shaligram ji ki Aarti -श्री शालिग्राम जी की आरती

श्री शालिग्राम जी की आरती – Shree Shaligram ji ki Aarti शालिग्राम सुनो विनती मेरी । यह बरदान दयाकर पाऊं ।। प्रात: समय उठी मंजन करके । प्रेम सहित सनान  कराऊँ ।। चन्दन धुप दीप तुलसीदल । वरन -बरन के पुष्प चढ़ाऊँ ।। तुम्हरे सामने नृत्य करूँ नित । प्रभु घंटा शंख मृदंग बजाऊं ।। … Read more

Maa Jagdamba Aarti – जगदम्बा जी की आरती

जगदम्बा जी की आरती – Maa Jagdamba Aarti आरती कीजै शैल – सुता की ।। टेक ।। जगदम्बा की आरती कीजै , सनेह-सुधा, सुख सुन्दर लीजै । जीने नाम लेत दृर्ग भीजे, ऐसी वह माता वसुधा की  ।। आरती ॰ ।। पाप विनाशनी, कलि -मल-हरिणी, दयामयी भवसागर तारिणी । शस्त्र धारिणी शैल- विहारिणी, बुद्धि- राशि … Read more

Shree Ramayan ji ki Aarti – रामायण जी की आरती

। श्री रामायण जी की आरती । Shree Ramayan Aarti । आरती श्री रामायण जी की । कीरति कलित  ललित सिया पी की ।।                   आरती श्री रामायण जी की…   गावत ब्रह्मादिक मुनि नारद,  बाल्मीकि विज्ञान विशारद । सुक सनकादि शेष अरू शारद, बरनी पवन सुत कीर्ति निकी  ।। … Read more

Ganpati ji ki Aarti -गणपति जी की आरती

गणपति जी की आरती ( Ganpati ji ki Aarti ) गणपति की सेवा मंगल मेवा सेवा में सब विघ्न टरे । तीन  लोक तैंतीस  देवता द्वार खड़े सब अर्ज़ करें ।। रिद्धि सिद्धि दक्षिण बाम विराजे आनंद सौं शहर चंवर डूरें ।  धूप दीप और लिए आरती भक्त खड़े जय कार करें ।। गुड़ के … Read more

Jagdamba ji ki Aarti – जगदम्बा जी की आरती

जगदम्बा जी की आरती – Jagdamba ji ki Aarti सुन मेरी देवी पर्वत बासिनि तेरा पार न पाया ।                 सुन मेरी देवी पर्वत बासिनि तेरा पार न पाया …… पान सुपारी धव्जा नरिरल ले तेरी भेंट चढ़ाया                  सुन मेरी देवी … Read more

Bhairav ji ki Aarti -भैरव जी की आरती

भैरव जी की आरती- Bhairav Aarti जय भैरव देवा ,प्रभु जय भैरव देवा । जय काली और गौरा देवी कृत सेवा ।। जय भैरव देवा ,प्रभु जय भैरव देवा ……. तुम्ही पाप उद्धारक दुःख सिंधु तारक । भक्तों के सुख कारक विषन बपुधारक ।।  जय भैरव देवा ,प्रभु जय भैरव देवा ……. वाहन शवान विराजत … Read more

Shree Krishna Chandra ji ki Aarti – श्री कृष्ण चंद्र जी की आरती

श्री कृष्ण चंद्र जी की आरती -Shree Krishan Chandra ji ki Aarti । आरती युगल किशोर की कीजै । राधे तन- मन- धन न्यौशाबार कीजै रवि शशि कोटी बदन की शोभा  ताहि निरख मेरो मन लोभा  । आरती युगल किशोर की कीजै…….. । गौर श्याम मुख निरखत रीजै प्रभु को रूट नयन भर पीजै  । … Read more

Shree Ram Chandra ji ki Aarti – श्री राम चंद्र जी की आरती

श्री राम चंद्र जी की आरती – Shree Ram Chandra ji Ki Aarti आरती कीजै रामचंद्र जी की । हरि हरि दुष्ट दलन सीतापति जी की ।।      पहली आरती पुष्पन की माला ।  काली नागनाथ लाए गोपाला ।। दूसरी आरती देवकी नंदन । भक्त उभारण कंस निकंदन ।। तीसरी आरती त्रिभुवन मन मोहे … Read more