श्री नृसिंह अष्टकम || Narsingh Ashtakam ||

श्री नृसिंह अष्टकम || Narsingh Ashtakam || ध्यायामि नरसिम्हक्यं ब्रह्म वेदन्तगोचारं । भवाब्धि तरनोपयं संख चाकर धरं परम् || १ || नीलं रामं चा परिभूय कृपा रसेन स्तम्भे स्वसक्ति मनघं विनिधाय देव । प्रह्लाद रक्षण विधि यति कृपा ते श्री नरसिंह परिपालय मम च भक्तं || २ || इन्द्रादि देव निकरस्य कीर्त कोटि प्रत्युप्त रत्न … Read more