श्री राम चंद्र जी की आरती 

आरती कीजै रामचंद्र जी की ।
हरि हरि दुष्ट दलन सीतापति जी की ।।
    
पहली आरती पुष्पन की माला ।
 काली नागनाथ लाए गोपाला ।।
 
दूसरी आरती देवकी नंदन ।
भक्त उभारण कंस निकंदन ।।
 
 
तीसरी आरती त्रिभुवन मन मोहे ।
रतन सिंहासन सीताराम जी सोहे ।।
 
चौथी आरती   चहुं युग पूजा ।
देव निरंजन स्वामी और न दूजा ।।
 
पांचवी आरती राम को भावे ।
राम जी का यश नामदेव जी गावे।।
 
Ram Aarti in hindi श्री राम चंद्र जी की आरती
 

 


Leave a Comment

1 Shares
Share
Tweet
Share
Pin1