वराह कवचम || Varaha Kavacham ||

वराह कवचम || Varaha Kavacham ||  अध्यं रन्गमिथि प्रोक्थं विमानं रङ्ग संग्निथं, श्री मुष्णं, वेन्कतद्रि च सलग्रमं च नैमिसं, थोथद्रीं पुष्करं चैव नर नारायनस्रमं, आश्तौ मय मुर्थय संथि स्वयम् व्यक्था महि थाले| श्री सुथ : श्री रुद्र निर्नीथ मुररि गुण सतः सागर, संथुष्ट परवथि प्राह संकरं, लोक संकरं | श्री पार्वती उबाच : श्री मुष्णेसस्य महाथ्म्यं, … Read more