हनुमान मंदिर जाखू शिमला हिमाचल प्रदेश

भगवान हनुमान को समर्पित एक प्राचीन मंदिर, जाखू मंदिर लोगों के दिलों में एक विशेष स्थान रखता है। शिमला में स्थित इस मंदिर के पीछे एक समृद्ध इतिहास है।

मंदिर जाखू पहाड़ी पर स्थित है, जो शिमला की सबसे ऊंची चोटियों में से एक है और रिज से 2.5 किमी पूर्व की दूरी पर स्थित है। इसकी ऊंचाई समुद्र तल से 2455 मीटर (8054 फीट) है।

जाखू मंदिर में दुनिया की सबसे बड़ी हनुमान प्रतिमा है, जो शिमला के अधिकांश हिस्सों से दिखाई देती है।

हनुमान जी का यह मंदिर सुंदर देवदार के घने जंगल के बीच में है और इसके आसपास बंदरों की आबादी बहुत ज़्यादा है

हनुमान प्रतिमा का निर्माण इंजीनियरिंग का एक अद्भुत नमूना है क्योंकि यह 8000 फीट से अधिक की ऊंचाई पर स्थित है, जो इसे समुद्र तल से इतनी ऊंचाई पर दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति है, जो रियो डी जनेरियो में क्राइस्ट द रिडीमर प्रतिमा को पीछे छोड़ देता है। 700 मीटर (2,300 फीट) की ऊंचाई पर 30 मीटर लंबा (8 मीटर के पेडस्टल को छोड़कर) है।

जाखू मंदिर की कथा के अनुसार, भगवान लक्ष्मण जब मेघनाथ के शक्ति बाण वर्शी से मुर्षित हो गए थे और हनुमान जी ने उनके प्राण बचाने के लिए संजीवनी बूटी की खोज के लिए हिमालय जा रहे थे | भगवान हनुमान कुछ देर इस स्थान पर रुके थे।

हनुमान मंदिर जाखू की कहानी

रामायण की लड़ाई के दौरान, राम और रावण के बीच, इंद्रजीत (रावण के पुत्र) के तीर से लक्ष्मण गंभीर रूप से घायल हो गए थे। उनकी प्राण रक्षा करने के लिए, हनुमान ने बहुप्रशंसित संजीवनी वूटी हिमालय से लाने के लिए प्रण किया, जिसके बारे में कहा जाता है कि यह किसी भी बीमारी को ठीक करता है।

ऐसा कहा जाता है कि भगवान हनुमान औषधीय पौधे को प्राप्त करने के रास्ते में यहीं रुक गए थे। इसके अलावा, यह भी माना जाता है कि इस स्थान का नाम ऋषि ‘याकू’ के नाम पर पड़ा है, जिसे हनुमान ने हिमालय की ओर जाते समय यहां बैठे हुए देखा था।

संजीवनी बूटी के बारे में और जानकारी जुटाने के लिए वह यहां उतरे। जिसके परिणाम स्वरूप जाखू पहाड़ी जो काफी ऊंची थी, आधी जमीन में धंस गई।

हनुमान जी विश्राम करने और संजीवनी बूटी का परिचय प्राप्त करने के लिए जाखू पर्वत के जिस स्थान पर उतरे, वहां आज भी उनके पद चिह्नों को संगमरमर से बनवा कर रखा गया है |

इसके बाद हिमालय में द्रोणागिरी पर्वत पर चले गए और उनकी वापसी पर ऋषि याकू से मिलने का वादा किया।

हालाँकि, वापस जाते समय, समय की कमी और चालाक राक्षस कालनेमी के साथ अपने टकराव के कारण, वह वापस पहाड़ी पर नहीं जा सका। हनुमान जी छोटे मार्ग से अयोध्या होते हुए लंका की तरफ उड़ चले | हनुमान जी बापसी में ऋषि यकू से नहीं मिले तो ऋषि व्याकुल हो गए.

इस पहाड़ी पर उतरने के बाद हनुमान जी के पैरों के निशान इस मंदिर में बन गए थे। हनुमान जी ने उन्हें दर्शन दिया, उसके बाद इस स्थान पर हनुमान जी की स्वयंभू मूर्ति प्रकट हुई. जिसे लेकर यक्ष ऋषि ने यहीं पर हनुमान जी का मंदिर बनवाया. आज यह मूर्ति मंदिर में स्थापित है और दूर-दूर से लोग उनके दर्शन को आते हैं.

यहां मंदिर के चारों ओर झुंड में निवास करने वाले बंदरों को भगवान हनुमान के वंशज कहा जाता है। मंदिर के निर्माण की मूल तिथि स्पष्ट रूप से ज्ञात नहीं है, लेकिन माना जाता है कि यह रामायण के समय से मौजूद है।

हनुमान मंदिर जाखू की वास्तुकला

शिमला में सबसे ऊंची चोटी होने के कारण, हनुमान मंदिर जाखू के दर्शनीय स्थल है और दूर से दिखाई देने वाली हनुमान जी की मूर्ति के दर्शन करने के लिए खींचे चले आते है

जाखू पहाड़ी सूर्योदय, सूर्यास्त, शिवालिक पर्वतमाला के ऊंचे पहाड़ों और पास के शहर संजौली के अद्भुत दृश्य प्रदान करती है। मंदिर तक का रास्ता संकरे सैरगाहों का है पर आराम देह है, यह एक शांत रास्ता और देवदार के पेड़ों से घिरा उत्कृष्ट दृश्य प्रस्तुत करता है। जाखू मंदिर अपने आप में एक शांत स्थान है

परिसर में रामायण के दौरान हनुमान के कारनामों को दर्शाने वाले भित्ति चित्र हैं। 2010 में यहां स्थापित हनुमान की विशाल 108 फीट ऊंची मूर्ति एक भव्य दृश्य है और इसने पूरे वर्षों में पर्यटकों की बढ़ती संख्या को आकर्षित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, जो इस वास्तुशिल्प चमत्कार को देखने के लिए यहां आते हैं।

रात के समय ऊंची हनुमान प्रतिमा को रोशन किया जाता है। यह शिमला में लगभग कहीं से भी दिखाई देती है!

jakhoo mandir shimla हनुमान मंदिर जाखू हनुमान मंदिर जाखू शिमला हिमाचल प्रदेश
Jakhoo Mandir Shimla

जाखू मंदिर रोपवे

जाखू मंदिर गोंडोला सवारी समुद्र तल से 8,054 फीट के ऊपर है और 5-6 मिनट से अधिक में आधा किलोमीटर की दूरी तय करती है, जिससे आप सड़कों पर सामान्य मानव भीड़ से बच जाते हैं। जाखू रोपवे राज्य के चार प्रमुख रोपवे आकर्षणों में से एक है, जिसमें अन्य हैं – रोहतांग में सोलंग नाला, बिलासपुर में नैना देवी और सोलन में टिम्बर ट्रायल। प्रत्येक रोपवे केबिन में छह लोग सवार हो सकते हैं।


2 Shares
Share
Tweet
Share
Pin2