राहु गायत्री मंत्र | Rahu Gayatri Mantra

राहु गायत्री मंत्र राहु को प्रसन्न करने का सबसे प्रभावी मंत्र है। राहु केतु के साथ छाया ग्रहों में से एक है। ज्योतिष कहता है कि हमारे पिछले जन्म के कर्म हमारी जन्म कुंडली में राहु और केतु की स्थिति को निर्धारित करते हैं। यदि हमारा पिछला जन्म कर्म अच्छा है, तो राहु यह सुनिश्चित करेगा कि हम सफलता और समृद्धि से भरा शाही जीवन जी सकें। राहु दोष से पीड़ित लोग इस राहु गायत्री मंत्र का जाप कर सकते हैं और राहु दोष के प्रतिकूल प्रभाव से राहत पा सकते हैं।

राहु केतु के बाद दूसरा सबसे शक्तिशाली ग्रह है। यह ग्रह और जिस घर में रहता है उसकी शक्ति को ख़तम करता है। अन्य ग्रह अनुकूल स्थिति में होने पर भी राहु और केतु में दोष होने पर भी कुछ प्रभाव नहीं दिखा सकते। इस कारन शादी में देरी होती है। गर्भधारण करना बहुत मुश्किल होता है। प्रयास से कभी मनचाहा परिणाम नहीं मिलता।


राहु गायत्री मंत्र

ॐ शिरोरुपाय विद्महे अमृतेशाय धीमहि तन्नो राहू: प्रचोदयात् ।।
Om ShiroRupaay Vidmahe Amriteshaay Dheemahi Tanno Rahu Prachodayat.

अन्य राहु गृह गायत्री मंत्र

ॐ नागध्वजाय विद्महे पद्महस्ताय धीमहि तन्नो राहुः प्रचोदयात् ||
Om Nagadhwajaya Vidmahe Padmahastaya Dheemahi Tanno Rahuh Prachodayat.

ॐ नीलवर्णाय विद्महे सैंहिकेयाय धीमहि तन्नो राहुः प्रचोदयात् ||
Om Nilwarnaay Vidmahe Sainhikeyay Dheemahi Tanno Rahu Prachodayat.


राहु गायत्री मंत्र लाभ

राहु को प्रसन्न करने के लिए की जाने वाली प्रार्थना से सरकार से कृपा, शत्रुओं पर विजय और राहु के कारण होने वाले रोगों में कमी आती है। यह गायत्री मंत्र भी काल सर्प दोष के उपचारात्मक मंत्रों में से एक है।

  1. राहु गायत्री मंत्र कुंडली में राहु ग्रह के सभी हानिकारक प्रभावों को दूर करता है।
  2. राहु गायत्री मंत्र अचानक अवसर प्रदान करता है।
  3. राहु गायत्री मंत्र अज्ञात रोगों और बुरी शक्तियों को दूर करता है।
  4. राहु गायत्री मंत्र आपको अचानक धन और सफलता प्रदान कर सकता है।
  5. राहु गायत्री मंत्र गुप्त विज्ञान और रहस्यमय विद्याओं में मदद करता है।
  6. राहु गायत्री मंत्र तत्काल सफलता के पीछे भाग्य कारक है।

राहु गायत्री मंत्र का जाप कैसे करें

यह राहु गायत्री मंत्र कुंडली में राहु ग्रह के सभी हानिकारक प्रभावों को दूर करता है। राहु गायत्री मंत्र अचानक अवसर प्रदान करता है। मंत्र अज्ञात बीमारियों और बुरी ताकतों को दूर करता है। मंत्र आपको अचानक धन और सफलता प्रदान कर सकता है।

कुंडली में ग्रह के नकारात्मक प्रभावों को शांत करने के लिए राहु गायत्री मंत्र का 108 बार (एक माला) प्रतिदिन पाठ करना चाहिए। राहु गायत्री मंत्र का जाप करने के लिए आदर्श संख्या 40 दिनों के भीतर 18,000 बार है।

सही समय रात का होता है। नाम जप करते समय आप नीले फूलों और चंदन के लेप से भी पूजा कर सकते हैं। शनिवार को जाप शुरू किया जा सकता है। आप उस स्थान पर राहु, नवग्रह, काली और दुर्गा यंत्र भी रख सकते हैं जहां आप इस मंत्र का जाप करते हैं ताकि परिणाम में तेजी आए।

  • किसी भी बुधवार से जप प्रारंभ करें।
  • राहु के किसी भी मंत्र का कम से कम 108 बार जाप करना चाहिए।
  • कृपया मंत्र जाप करते समय उत्तर दिशा की ओर मुंह करना याद रखें।
  • सर्वोत्तम प्रभाव के लिए राहु काल के दौरान इन मंत्रों का जाप करें।

राहु गायत्री मंत्र जप का आदर्श तरीका नवग्रह मूर्ति वाले मंदिर में जाकर राहु देवता की पूजा करना है। मंदिर में राहु गायत्री मन्त्र का जाप आप जितनी बार चाहें कर सकते हैं।

rahu gayatri mantra
Rahu gayatri Mantra

Rahu Gayatri Mantra PDF