गंगा का धरती पर अवतरण

एक बार की बात है, इक्ष्वाकु के वंश में सगर नामक एक राजा रहता था। जिस वंश के महाराज रामचन्द्र थे, उसी वंश के, उनके कई पीढ़ी पहले अयोध्या में राजा सगर राज्य करते थे। वह महान शक्तिशाली शासक था और उसने आसपास के विभिन्न राज्यों के साथ कई लड़ाइयां लड़ी थीं।

उन्होंने जितनी भी लड़ाइयाँ लड़ीं, उनमें से अधिकांश में वे विजेता रहे और उन राज्यों पर अधिकार स्थापित कर लिया। राजा सगर ने दो महिलाओं से शादी की केशिनी और सुमति और अंततः कई बच्चों के पिता बने। इस शक्तिशाली राजा के पुत्र अपने पिता के समान ही शक्तिशाली और वीर थे।

राजा सगर के पुत्रों ने पृथ्वी के विभिन्न कोनों पर आक्रमण किया और उन सभी से लड़े जिन्होंने उन्हें रोकने की कोशिश की और विजय हासिल की।

लंबे समय तक अपने वंश पर शासन करने के बाद, चक्रवर्ती सम्राट बनने के लिए, राजा सगर ने अश्वमेघ यज्ञ करने का फैसला किया। राजा सगर के पुत्रों ने पूरी पृथ्वी पर घोड़े का नेतृत्व किया। हालाँकि, जब घोड़ा इधर-उधर घूम रहा था, तो बीच में अचानक अश्वमेघ यज्ञ का घोडा खो गया ।

राजा सगर के घोड़े को इन्द्र ने पकड़ लिया। उन्होंने हर जगह घोड़े की तलाश की लेकिन वह कहीं भी नहीं मिला। सगर के राजकुमार राज्य में लौट आए और उन्होंने अपने पिता को इसकी सूचना दी।

सगर ने अपने पुत्रों को निर्देश दिया कि अश्वमेध यज्ञ करने के लिए उसे उस घोड़े की आवश्यकता होगी जिसके बिना यज्ञ संभव नहीं था। इसलिए, उसने उन्हें वापस जाने और घोड़े को फिर से खोजने का आदेश दिया।

अपने पिता के निर्देश पर, पुत्रों ने एक बार फिर घोड़े को खोजने के कार्य में खुद को लगा लिया। वे समुद्र के पास पहुँचे और उन्हें समुद्र के तल पर एक बड़ा सा छेद मिला।

राजकुमारों ने गड्ढा गहरा खोदा ताकि वह अन्दर प्रवेश कर सकें और घोड़े की तलाश करने में सफल रहें। अंदर जाने पर उन्हें एक आश्रम के पास घोड़ा मिला। यह आश्रम ऋषि कपिला का था। जब राजकुमार पहुंचे, तो ऋषि ध्यान कर रहे थे। राजा के पुत्र घोड़े का पता लग जाने से बहुत उत्साहित थे और उन्होंने ऋषि की बिल्कुल भी परवाह नहीं की और घोड़े की एक झलक पाकर खुशी से झूम उठे।

राजा के पुत्रों ने समझा कि हमारे पिता के यज्ञ में विघ्न डालने वाला यही है। क्रोध में बोले , ‘‘तू ही हमारे पिता के यज्ञ के घोड़े को चुरा लाया है। देख, सगर के पुत्र तुझे खोजते-खोजते आ गये। मुनि कपिल को बहुत क्रोध आया और उन्होंने इन पुत्रों को वहीं भस्म कर दिया।

नारद ने सगर को अपने पुत्रों की दुर्भाग्यपूर्ण खबर के बारे में बताया। राजा अपने पुत्रों के बारे में जानने के लिए बेताब हो गया था, हालांकि वह अपने पुत्रों के साथ कोई न्याय करने की स्थिति में नहीं था और उसकी प्रतिज्ञा ने उसे तब तक बाहर जाने की अनुमति नहीं दी जब तक कि घोड़ा अपने राज्य में वापस नहीं आ गया होता।

राजा का एक पोता था जिसे अम्सुमन कहा जाता था। सगर ने अम्सुमन को पुकारा और मदद मांगी। राजा सगर ने निर्देश दिया कि वह पता करे कि उसके पिता और चाचा जिस रास्ते पर घोड़े की खोज में गए थे अभी तक बापिस नहीं लौटे और उनके साथ ऐसा दुर्भाग्यपूर्ण क्या हुआ जो वो बापिस नहीं आये।

अम्सुमन ने जरा भी संकोच नहीं किया और तुरंत अपनी यात्रा पर निकल पड़ा। जल्द ही, वह ऋषि कपिला के आश्रम में पहुंचे। उन्होंने ऋषि को आंखें बंद करके ध्यान करते हुए पाया।

अम्सुमन ने अपना धैर्य बनाए रखा और ऋषि के आंखें खोलने की प्रतीक्षा करने लगे। ऋषि कपिला ने लड़के के धैर्य और दृढ़ता की सराहना की। वह चाहता था कि लड़का वर मांगे।

अम्सुमन काफी चतुर थी और उसने वरदान को व्यर्थ नहीं जाने दिया। उन्होंने ऋषि से घोड़े को छोड़ने का अनुरोध किया। ऋषि ने तुरंत घोड़े को छोड़ दिया और अम्सुमन से एक और वरदान मांगने को कहा। अम्सुमन चाहता था कि ऋषि उसके मृत पिता और चाचाओं को बचाए।

ऋषि इच्छा को पूरा करने के लिए पर्याप्त थे, लेकिन उन्होंने तुरंत इसे पूरा नहीं किया। उसने लड़के के लिए एक शर्त रखी। उसने लड़के से गंगा नदी का जल स्वर्ग से पृथ्वी पर लाने को कहा।

अम्सुमन महल में लौट गए और राजा को पूरी घटना सुनाई। राजा ने खुशी-खुशी अश्वमेघ यज्ञ अनुष्ठान किया और अम्सुमन का राज्याभिषेक राजा के रूप में किया और अपने राजसी सुखों को छोड़कर जंगलों में रहने लगे।

अम्सुमन का दिलीप नाम का एक पुत्र था। सगर के पश्चात् उनके वंश में अनेक लोगों ने बड़ी तपस्या की, किन्तु कोई गंगा की धारा लाने में समर्थ नही हुआ। अन्त में सगर के प्रपौत्र भगीरथ ने प्रतिज्ञा की, कि मै गंगा की धारा बहाकर लाऊँगा। भगीरथ विख्यात महाराज दिलीप के पुत्र थे।

इन्हें अपने पितामहों की कथा सुनकर बड़ा दुःख हुआ। उन्हें इस बात का दुःख था कि मेरे पिता, पितामह यह कार्य न कर सके। उनके कोई सन्तान न थी और वह सारा राजकार्य मन्त्रियों को सौंपकर तप करने चले गये। उन्होंने अपने लाभ के लिए अथवा अपने हित के लिए तप नहीं किया। उनकी एकमात्र अभिलाषा यही थी कि गंगा की धारा लाकर अपने पितामहों की राख अर्पित कर दूँ।

भगीरथ की कहानी

दिलीप के पुत्र का नाम भगीरथ था। भगीरथ अपने पिता के इच्छा से अवगत थे, इसलिए वह अपने पिता की इच्छाओं को पूरा करने के लिए बहुत कम उम्र में हिमालय चले गए। भगीरथ गोकर्ण तीर्थ में जाकर घोर तपस्या करने लगे। ब्रह्मा के प्रसन्न होने पर उन्होंने दो वर माँगे,एक तो यह कि गंगा जल चढ़ाकर भस्मीभूत पितरों को स्वर्ग प्राप्त करवा पायें और दूसरा यह कि उनको कुल की सुरक्षा करने वाला पुत्र प्राप्त हो।

गंगा नदी को प्रसन्न करने के लिए उन्होंने कई वर्षों तक प्रार्थना की। अंततः, वह नदी को प्रसन्न कर सका और वह देवी के रूप में भगीरथ के सामने आई। जल्द ही, गंगा नदी पृथ्वी पर बहने के लिए तैयार हो गई। हालाँकि, गंगा बहुत शक्तिशाली थी और इसे रोकने के लिए कोई नहीं होता तो यह नदी बहुत जबरदस्ती बहती।

इसलिए इसे किसी ऐसे ही बलवान की जरूरत थी जो स्वर्ग से गिरने वाली नदी का बेग़ ( तेज़ प्रवाह ) रोक ले। गंगा नदी चाहती थी कि इस काम के लिए भगवान शिव से संपर्क किया जाए।

भगवान शिव के बारे में सुनकर, अब भगीरथ शिव का ध्यान करने लगे। भगवान शिव भगीरथ की प्रार्थना से प्रसन्न हुए और उनके सामने प्रकट हुए। शंकर ने प्रसन्न होकर गंगा को अपने मस्तक पर धारण किया। इसके बाद, उन्होंने गंगा से प्रार्थना की और उनसे पृथ्वी पर प्रवाहित होने का अनुरोध किया।

गंगा का अभिमान उनकी शक्ति थी और यह नहीं जानती थी कि भगवान शिव उनके बल का सामना कैसे करेंगे। शिव गंगा के विचारों को समझ सकते थे और इसलिए उन्होंने अपनी सारी शक्ति लगा दी और बड़े जोश के साथ इसका सामना किया। शिव ने यह जानकर उन्हें अपनी जटाओं में ऐसे समा लिया कि उन्हें वर्षों तक शिव-जटाओं से निकलने का मार्ग नहीं मिला।

भगीरथ ने फिर से तपस्या की। शिव ने प्रसन्न होकर उसे बिंदुसर की ओर छोड़ा। वे सात धाराओं के रूप में प्रवाहित हुईं। ह्लादिनी, पावनी और नलिनी पूर्व दिशा की ओर; सुचक्षु, सीता और महानदी सिंधु पश्चिम की ओर बढ़ी।

सातवीं धारा राजा भगीरथ की अनुगामिनी हुई। राजा भगीरथ गंगा में स्नान करके पवित्र हुए और अपने दिव्य रथ पर चढ़कर चल दिये। गंगा उनके पीछे-पीछे चलीं। मार्ग में अभिमानिनी गंगा के जल से जह्नुमुनि की यज्ञशाला बह गयी।

क्रुद्ध होकर मुनि ने सम्पूर्ण गंगा जल पी लिया। इस पर चिंतित समस्त देवताओं ने जह्नुमुनि का पूजन किया तथा गंगा को उनकी पुत्री कहकर क्षमा-याचना की। जह्नु ने कानों के मार्ग से गंगा को बाहर निकाला। तभी से गंगा जह्नुसुता जान्हवी भी कहलाने लगीं। भगीरथ के पीछे-पीछे चलकर गंगा समुद्र तक पहुँच गयीं।

भगीरथ उन्हें रसातल ले गये तथा पितरों की भस्म को गंगा से सिंचित कर उन्हें पाप-मुक्त कर दिया। ब्रह्मा ने प्रसन्न होकर कहा—“हे भगीरथ, जब तक समुद्र रहेगा, तुम्हारे पितर देववत माने जायेंगे तथा गंगा तुम्हारी पुत्री कहलाकर भागीरथी नाम से विख्यात होगी। साथ ही वह तीन धाराओं में प्रवाहित होगी, इसलिए त्रिपथगा कहलायेगी।’’

ऐसा कहा जाता है, कि गंगा को लाने के पश्चात् और अपने पितामहों की धार्मिक क्रिया करने के पश्चात् बहुत दिनों तक महाराजा भगीरथ ने अयोध्या में राज्य किया। इससे स्पष्ट है कि उन्होंने गंगा की धारा अपने राज्य के हित के लिए बहायी। वाल्मीकि ने अपनी रामायण में उस घटना का बहुत रमणीक वर्णन किया है। आगे-आगे भगीरथ का रथ चला आ रहा है और पीछे-पीछे गंगा की धारा वेग से बहती चली आ रही है।

भगीरथ एक महान राजा ही नहीं थे, महान व्यक्ति भी थे, उन्होंने मानवता के हित के लिए सब कुछ किया। चिरकाल तक मानवता उनकी ऋणी रहेगी।

भगीरथ की कहानी ,गंगा का धरती पर आने की कहानी
गंगा का धरती पर आने की कहानी