केतु ग्रह  कवच

अथ केतुकवचम्
 
अस्य श्रीकेतुकवचस्तोत्रमंत्रस्य त्र्यंबक ऋषिः 
 
अनुष्टप् छन्दः । केतुर्देवता । कं बीजं । नमः शक्तिः 
 
केतुरिति कीलकम् I केतुप्रीत्यर्थं जपे विनियोगः 
 
केतु करालवदनं चित्रवर्णं किरीटिनम् 
 
प्रणमामि सदा केतुं ध्वजाकारं ग्रहेश्वरम् ॥ १ 
 
चित्रवर्णः शिरः पातु भालं धूम्रसमद्युतिः 
 
पातु नेत्रे पिंगलाक्षः श्रुती मे रक्तलोचनः ॥ २ 
 
 
घ्राणं पातु सुवर्णाभश्चिबुकं सिंहिकासुतः 
 
पातु कंठं च मे केतुः स्कंधौ पातु ग्रहाधिपः ॥ ३ 
 
हस्तौ पातु श्रेष्ठः कुक्षिं पातु महाग्रहः 
 
सिंहासनः कटिं पातु मध्यं पातु महासुरः ॥ ४ 
 
ऊरुं पातु महाशीर्षो जानुनी मेSतिकोपनः 
 
पातु पादौ च मे क्रूरः सर्वाङ्गं नरपिंगलः ॥ ५ 
 
 
य इदं कवचं दिव्यं सर्वरोगविनाशनम् 
 
सर्वशत्रुविनाशं च धारणाद्विजयि भवेत् ॥ ६ 
 
 इति श्रीब्रह्माण्डपुराणे केतुकवचं संपूर्णं 
 
Ketu Kavach
 

केतु ग्रह कवच के लाभ

  • केतु ग्रह कवच का पाठ बहुत ही शक्तिशाली पाठ है
  • केतु ग्रह कवच का पाठ बहुत ही चमत्कारी पाठ है
  • इस पाठ को करने से केतु गृह शांत होता है
  • केतु ग्रह कवच का पाठ करने से केतु के दुष्प्रभाव से बचाव होता है
  • केतु ग्रह कवच का पाठ करने से हर बीमारी से निजात मिलता है
  • इस पाठ को करने से नकरात्मक ऊर्जा की समाप्ति होती है
  • केतु ग्रह कवच का पाठ रोज़ करने से केतु गृह मजबूत होता है

यह भी जरूर पढ़े:-


FAQ’S

  1. केतु गृह की उच्च राशि कौन सी होती है?

    केतु गृह की उच्च राशि धनु होती है

  2. केतु किसका कारक है?

    केतु गृह वैराग्य, मोक्ष,आदि का कारक है


केतु ग्रह कवच PDF


Leave a Comment

1 Shares
Share
Tweet
Share
Pin1