केतु स्तोत्र 

केतु: काल: कलयिता धूम्रकेतुर्विवर्णक:।
 
लोककेतुर्महाकेतु: सर्वकेतुर्भयप्रद: ।।1।।
 
 
रौद्रो रूद्रप्रियो रूद्र: क्रूरकर्मा सुगन्ध्रक्।
 
फलाशधूमसंकाशश्चित्रयज्ञोपवीतधृक् ।।2।।
 
 
तारागणविमर्दो च जैमिनेयो ग्रहाधिप:।
 
पंचविंशति नामानि केतुर्य: सततं पठेत् ।।3।।
 
 
तस्य नश्यंति बाधाश्चसर्वा: केतुप्रसादत:।
 
धनधान्यपशूनां च भवेद् व्रद्विर्नसंशय: ।।4।।
 
Ketu Stotram केतु स्तोत्र
 

केतु स्तोत्र के लाभ

  • केतु ग्रह को सभी सुखों का स्वामी माना जाता है।
  • गणेश जी को केतु का देवता माना जाता है
  • केतु स्तोत्र का पाठ करने से मनुष्य के जीवन में सुख समृद्धि का वास होता है
  • केतु स्तोत्र का पाठ बुधवार के दिन करना चाहिए
  • केतु गृह दोष निवारण के लिए आप लहसुनिया रतन धारण कर सकते है इस से केतु गृह के दुष्ट प्रभावों से बचा जा सकता है

यह भी जरूर पढ़ें:-


FAQ’S

  1. केतु गृह के देवता कौन है?

    केतु गृह के देवता गणेश जी है

  2. केतु गृह के लिए दान किस दिन करे?

    केतु गृह के लिए दान बुधवार के दिन करना चाहिए

  3. केतु गृह को शांत करने का क्या उपाय है?

    केतु ग्रह को शांत करने के लिए बुधवार के दिन गणेश जी की पूजा अर्चना करे और काले रंग की गाय को चारा खिलाये


केतु स्तोत्र PDF


Leave a Comment

1 Shares
Share
Tweet
Share
Pin1