Mahashivratri Status in Hindi

 
भोले के लीला  में मुझे डूब जाने दो, शिव के चरणों में शीश झुकाने दो,
आई है शिवरात्रि मेरे भोले बाबा का दिन, आज के दिन मुझे भोले के गीत गाने दो. !!
 

Happy Mahashivratri

 
 
Mahashivratri Wishes in Hindi

 

शिव की महिमा अपरम्पार;
शिव करते सबका उद्धार;
उनकी कृपा आप पर सदा बनी रहे;
और आपके जीवन में आयें खुशियाँ हज़ार।
 

Happy Mahashivratri

 
Mahashivratri Status in Hindi
 
काल का भी उस पर क्या आघात हो …. जिस बंदे पर महाकाल का हाथ हो..!!
Happy Mahashivratri
 
 
shivratri status in hindi

 

 

शिव की शक्ति, शिव की भक्ति, ख़ुशी की बहार मिले, 
शिवरात्रि के पावन अवसर पर आपको ज़िन्दगी की एक नई अच्छी शुरुवात मिले!
 

Mahashivratri ki Shubhkamnaye

 
mahashivratri ki shubhkamnaye
भोलेनाथ आपकी सारी मनोकामनाएं पूर्ण करे…..  महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएं
 

Happy Mahashivratri

 
Happy Shivratri

 

महादेव तेरे बगैर, सब व्यर्थ है मेरा…
मैं हुँ तेरा शब्द, और तू अर्थ है मेरा ||
 

Mahashivraat ki shubhkamnaye

 
shivratri pic
जब भी मैँ अपने बुरे हालातो से घबराता  हूँ 
तब मेरे महादेव की अवाज आती है रूक मैँ आता हूँ.
 
” शिवरात्रि की शुभकामनायें ” 
 
bhole ki shivraat
महा शिवरात्रि की शुभकामनाए भक्ति  में है शक्ति  बंधू,
शक्ति  में संसार  हैं, त्रिलोक  में है जिसकी चर्चा, उन शिव  जी का आज त्यौहार हैं.
 
” शिवरात्रि की शुभकामनायें “
 
Happy Mahashivratri images
 

” शिवरात्रि की शुभकामनायें ” 

 
shiv vivah ki shubhkamnaye
 

 

shivratri ki shubhkamnaye
हम भक्त हैं उनके, हम पर भोलेनाथ का साया
हमारे भोले ही सबकुछ बाकी तो सब मोह माया।

 

” महाशिवरात्रि की शुभकामनाएं। “

 
 
 
shivratri quotes in hindi
 
जगह-जगह में शिव हैं हर जगह में शिव है है वर्तमान शिव और भविष्य भी शिव हैं !

FAQs

  1. महाशिवरात्रि कब है 2022 में ?

    1 March 2022

  2. महाशिवरात्रि क्यों मनाई जाती है ?

    महा शिवरात्रि भगवान शिव के सम्मान में मनाया जाने वाला एक महत्वपूर्ण हिंदू त्योहार है। इस दिन भगवान शिव के भक्त एक दिन का व्रत करते हैयह पर्व भगवान शिव और देवी पार्वती की वर्षगांठ के रूप में भी मनाया जाता है

  3. शिवरात्रि पर्व में शिवलिंग पर क्या चढ़ाना चाहिए?

    शिवलिंग पर सबसे पहले पंचामृत चढ़ाना चाहिए. पंचामृत यानी दूध, गंगाजल, केसर, शहद और जल से बना हुआ मिश्रण. जो लोग चार प्रहर की पूजा करते हैं उन्हें पहले प्रहर का अभिषेक जल, दूसरे प्रहर का अभिषेक दही, तीसरे प्रहर का अभिषेक घी और चौथे प्रहर का अभिषेक शहद से करना चाहिए


Leave a Comment

4 Shares
Share
Tweet
Share
Pin4