शान्ताकारं भुजगशयनं पद्मनाभं श्लोक

शान्ताकारं भुजगशयनं पद्मनाभं सुरेशं
विश्वाधारं गगनसदृशं मेघवर्ण शुभाङ्गम् ।
लक्ष्मीकान्तं कमलनयनं योगिभिर्ध्यानगम्यम्
वन्दे विष्णुं भवभयहरं सर्वलोकैकनाथम् ॥

 

Shaanta-Aakaaram Bhujaga-Shayanam Padma-Naabham Sura-Iisham
Vishva-Aadhaaram Gagana-Sadrsham Megha-Varnna Shubha-Anggam|
Lakssmii-Kaantam Kamala-Nayanam Yogibhir-Dhyaana-Gamyam
Vande Vissnnum Bhava-Bhaya-Haram Sarva-Loka-Eka-Naatham ||
 

शान्ताकारम भुजगशयनम पद्मनाभम सुरेशं हिंदी अर्थ

शान्ताकारं जिनकी आकृति अतिशय शांत है, वह जो धीर क्षीर गंभीर हैं,

भुजग-शयनंजो शेषनाग की शैया पर शयन किए हुए हैं (विराजमान हैं),

पद्मनाभंजिनकी नाभि में कमल है,

सुरेशंजो ‍देवताओं के भी ईश्वर और

विश्वाधारंजो संपूर्ण जगत के आधार हैं, संपूर्ण विश्व जिनकी रचना है,

गगन-सदृशंजो आकाश के सदृश सर्वत्र व्याप्त हैं,

मेघवर्णनीलमेघ के समान जिनका वर्ण है,

शुभाङ्गम्अतिशय सुंदर जिनके संपूर्ण अंग हैं, जो अति मनभावन एवं सुंदर है

लक्ष्मीकान्तंऐसे लक्ष्मी के कान्त ( लक्ष्मीपति )

कमल-नयनंकमलनेत्र (जिनके नयन कमल के समान सुंदर हैं)

योगिभिर्ध्यानगम्यम् (योगिभिर – ध्यान – गम्यम्) – जो योगियों द्वारा ध्यान करके प्राप्त किए जाते हैं, (योगी जिनको प्राप्त करने के लिया हमेशा ध्यानमग्न रहते हैं)

वन्दे विष्णुंभगवान श्रीविष्णु को मैं प्रणाम करता हूँ (ऐसे परमब्रम्ह श्री विष्णु को मेरा नमन है)

भवभय-हरंजो जन्म-मरण रूप भय का नाश करने वाले हैं, जो सभी भय को नाश करने वाले हैं

सर्वलोकैक-नाथम्जो संपूर्ण लोकों के स्वामी हैं, सभी चराचर जगत के ईश्वर हैं

शान्ताकारं भुजगशयनं पद्मनाभं Shanta Karam Bhujaga Shayanam

 

 

Meaning of  Shantakaram Bhujagashayanam Vishnu Mantra in English

 
Salutations to Sri Vishnu, Who has a Serene Appearance, Who Rests on a Serpent (Adisesha), Who has a Lotus on His Navel and Who is the Lord of the Devas,
Who Sustains the Universe, Who is Boundless and Infinite like the Sky, Whose Colour is like the Cloud (Bluish) and Who has a Beautiful and Auspicious Body,
Who is the Husband of Devi Lakshmi, Whose Eyes are like Lotus and Who is Attainable to the Yogis by Meditation,
Salutations to That Vishnu Who Removes the Fear of Worldly Existence and Who is the Lord of All the Lokas.


पढ़िए भगवान विष्णु के मंत्र ,स्तुति ,आरती और चालीसा


शान्ताकारं भुजगशयनं पद्मनाभं श्लोक के लाभ

  • शान्ताकारं भुजगशयनं पद्मनाभं श्लोक का पाठ बहुत ही लाभकारी होता है
  • इस पाठ को सच्ची भावना से किया जाये तो विष्णु जी बहुत प्रसन होते है
  • शान्ताकारं भुजगशयनं पद्मनाभं श्लोक का पाठ करने से घर में सुख समृद्धि का वास होता है
  • एकादशी के दिन ये पाठ करने से विष्णु भगवान की असीम कृपा मिलती है
  • यह पाठ करने के बाद विष्णु जी की आरती अवश्य करे

FAQ’S

  1. शान्ताकारं भुजगशयनं पद्मनाभं श्लोक का पाठ किस दिन करना चाहिए?

    शान्ताकारं भुजगशयनं पद्मनाभं श्लोक का पाठ वीरवार के दिन करना चाहिए

  2. भगवान विष्णु जी को किसका स्वरुप माना जाता है?

    भगवान विष्णु जी को शांति का स्वरुप माना जाता है


शान्ताकारं भुजगशयनं पद्मनाभं श्लोक PDF


1 thought on “शान्ताकारं भुजगशयनं पद्मनाभं | Shantakaram Bhujagashayanam”

Leave a Comment

3 Shares
Share
Tweet
Share
Pin3