बृहस्पति स्तोत्र 

पीताम्बर: पीतवपु: किरीटी, चतुर्भुजो देवगुरु: प्रशान्त: ।
 
दधाति दण्डं च कमण्डलुं च, तथाक्षसूत्रं वरदोsस्तु मह्यम ।।1।।
 
 
नम: सुरेन्द्रवन्द्याय देवाचार्याय ते नम: ।
 
नमस्त्वनन्तसामर्थ्यं देवासिद्धान्तपारग ।।2।।
 
 
सदानन्द नमस्तेस्तु नम: पीडाहराय च ।
 
नमो वाचस्पते तुभ्यं नमस्ते पीतवाससे ।।3।।
 
 
नमोsद्वितीयरूपाय लम्बकूर्चाय ते नम: ।
 
नम: प्रह्रष्टनेत्राय विप्राणां पतये नम: ।।4।।
 
 
नमो भार्गवशिष्याय विपन्नहितकारक: ।
 
नमस्ते सुरसैन्याय विपन्नत्राणहेतवे ।।5।।
 
 
विषमस्थस्तथा नृणां सर्वकष्टप्रणाशनम ।
 
प्रत्यहं तु पठेद्यो वै तस्य कामफलप्रदम ।।6।।
 
 
 इति मन्त्रमहार्णवे बृहस्पति स्तोत्र
 
Brihaspati Stotram  बृहस्पति स्तोत्र
 

बृहस्पति स्तोत्र के लाभ

  • बृहस्पति स्तोत्र का पाठ बहुत चमत्कारी पाठ है
  • बृहस्पति गृह संतान पक्ष के कारक माने जाते है
  • कुंडली में बृहस्पति उच्च स्थान पर हो तो बहुत ही शुभ फल मिलते है
  • बृहस्पति गृह ख़राब चल रहा हो तो वैवाहिक जीवन में बहुत सी परेशानी का सामना करना पड़ता है
  • रोज़ सुबह सूर्य देव को जल देने से भी गुरु गृह ठीक हो जाता है
  • बृहस्पति गृह को ठीक करने के लिए बृहस्पति स्तोत्र का पाठ करना चाहिए
  • यह गृह रिश्तो और स्वामी पक्ष का भी स्वामी होता है
  • अपने बुजुर्गो का सम्मान करना चाहिए

बृहस्पति स्तोत्र की विधि

  • बृहस्पति स्तोत्र का पाठ वीरवार के दिन करना चाहिए
  • सुबह स्नान करके पीले रंग के वस्त्र पहने
  • मंदिर में एक चौकी रखे उस पर पीले रंग का कपडा बिछाये
  • बृहस्पति स्तोत्र का पाठ आरम्भ करे
  • बृहस्पति कमजोर हो तो व्रत भी रख सकते है
  • वीरवार के दिन पीली चीजों का दान करना चाहिए
  • पीले रंग की मिठाई खाये
  • केले के पेड़ पर जल चढ़ाये

यह भी जरूर पढ़े:-


FAQ’S

  1. बृहस्पति स्तोत्र का पाठ कब करना चाहिए?

    बृहस्पति स्तोत्र का पाठ वीरवार के दिन करना चाहिए

  2. बृहस्पति को ठीक करने के लिए किस चीज़ का दान करना चाहिए?

    बृहस्पति को ठीक करने के लिए पीले रंग की चीज़ो का दान करना चाहिए


बृहस्पति स्तोत्र PDF


Leave a Comment

1 Shares
Share
Tweet
Share
Pin1