भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग 

 
श्री भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग महाराष्ट्र के पूणे जिले में सह्याद्रि नामक पर्वत पर स्थित है। श्री भीमाशंकर के शिवलिंग को ही शिव का छठा ज्योतिर्लिंग कहते हैं।
 
‘ज्योति ‘ का अर्थ है “चमक” और “शिवलिंग” का अर्थ है “छवि” इसलिए एक ज्योतिर्लिंग का मतलब है “उज्ज्वल छवि या चिह्न के सर्वोच्च भगवान शिव”।
 
भगवान शिव के बारह ज्योतिर्लिंगों में भीमाशंकर का स्थान छठा है। यह ज्योतिर्लिंग महाराष्ट्र के पुणे से लगभग 110 किमी दूर सहाद्रि नामक पर्वत पर स्थित है। इस ज्योतिर्लिंग की स्थापना के पीछे कुंभकर्ण के पुत्र भीम की एक कथा प्रसिद्ध है।

 

श्री भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग को मोटेश्वर महादेव के नाम से भी जाना जाता है। भीमाशंकर मंदिर के विषय में मान्यता है कि जो भक्त श्रद्धा से भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग मंदिर का दर्शन प्रतिदिन सुबह सूर्य निकलने के बाद करता है, उसके सभी जन्मों के पाप दूर हो जाते हैं और उसके लिए स्वर्ग के मार्ग खुल जाते हैं।

 
श्री भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग की कथा इस प्रकार है कि पूर्व समय में भीम नामक एक महाबलशाली राक्षस हुआ करता था। कहा जाता है कि कुंभकर्ण के एक पुत्र का नाम भीम था।
 
कुंभकर्ण को कर्कटी नाम की एक महिला पर्वत पर मिली थी। उसे देखकर कुंभकर्ण उस पर मोहित हो गया और उससे विवाह कर लिया।
 
विवाह के बाद कुंभकर्ण लंका लौट आया, लेकिन कर्कटी पर्वत पर ही रही। कुछ समय बाद कर्कटी को भीम नाम का पुत्र हुआ।
 

जब श्रीराम ने कुंभकर्ण का वध कर दिया तो कर्कटी ने अपने पुत्र को देवताओं के छल से दूर रखने का फैसला किया। बड़े होने पर जब भीम को अपने पिता की मृत्यु का कारण पता चला तो उसने देवताओं से बदला लेने का निश्चय कर लिया।

 
भीम ने ब्रह्मा जी की तपस्या करके उनसे बहुत ताकतवर होने का वरदान प्राप्त कर लिया। कामरूपेश्वप नाम के राजा भगवान शिव के भक्त थे।
 
एक दिन भीम ने राजा को शिवलिंग की पूजा करते हुए देख लिया। भीम ने राजा को भगवान की पूजा छोड़ उसकी पूजा करने को कहा।
 
राजा के बात न मानने पर भीम ने उन्हें बंदी बना लिया। राजा ने कारागार में ही शिवलिंग बना कर उनकी पूजा करने लगा।
 
जब भीम ने यह देखा तो उसने अपनी तलवार से राजा के बनाए शिवलिंग को तोड़ने का प्रयास किया। ऐसा करने पर शिवलिंग में से स्वयं भगवान शिव प्रकट हो गए।
 
भगवान शिव और भीम के बीच घोर युद्ध हुआ, जिसमें भीम की मृत्यु हो गई। फिर देवताओं ने भगवान शिव से हमेशा के लिए उसी स्थान पर रहने की प्रार्थना की।
 
देवताओं के कहने पर शिव लिंग के रूप में उसी स्थान पर स्थापित हो गए। इस स्थान पर भीम से युद्ध करने की वजह से इस ज्योतिर्लिंग का नाम भीमशंकर पड़ गया।
 
भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग
  

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग मंदिर का स्वरूप

 
भीमशंकर मंदिर बहुत ही प्राचीन है, लेकिन यहां के कुछ भाग का निर्माण नया भी है। इस मंदिर के शिखर का निर्माण कई प्रकार के पत्थरों से किया गया है।
 
यह मंदिर मुख्यतः नागर शैली में बना हुआ है। मंदिर में कहीं-कहीं इंडो-आर्यन शैली भी देखी जा सकती है।  इस मंदिर का निर्माण विश्वकर्मा वास्तुशिल्पियों के उत्कृष्ट शिल्प कौशल से पता चलता है।
 
इस तीर्थ स्थान है सबसे सुंदर घने जंगलों और वन्य जीवन से घिरा हुआ और करने के लिए स्वर्ग के रूप में संदर्भित किया जाता है।

 

देवी पार्वती का मंदिर भी है यहां

 
भीमशंकर मंदिर से पहले ही शिखर पर देवी पार्वती का एक मंदिर है। इसे कमलजा मंदिर कहा जाता है। मान्यता है कि इसी स्थान पर देवी ने राक्षस त्रिपुरासुर से युद्ध में भगवान शिव की सहायता की थी।
 
युद्ध के बाद भगवान ब्रह्मा ने देवी पार्वती की कमलों से पूजा की थी।
 

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग मंदिर के पास स्थित है कई कुंड

 
यहां के मुख्य मंदिर के पास मोक्ष कुंड, सर्वतीर्थ कुंड, ज्ञान कुंड, और कुषारण्य कुंड भी स्थित है। इनमें से मोक्ष नामक कुंड को महर्षि कौशिक से जुड़ा हुआ माना जाता है और कुशारण्य कुंड से भीम नदी का उद्गम माना जाता है।
 
भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग
 

भीमशंकर ज्योतिर्लिंग के आस-पास घूमने के स्थान

 
1. हनुमान तालाब- भीमशंकर मंदिर से कुछ दूरी पर हनुमान तालाब नामक स्थान है।
2. गुप्त भीमशंकर- भीमशंकर मंदिर से कुछ दूरी पर गुप्त भीमशंकर स्थित है।
3. कमलजा देवी- भीमशंकर मंदिर से पहले देवी पार्वती का कमलजा नामक एक मंदिर है।




  • मंगलवार के दिन हनुमान व्रत कथा Hanuman Vrat Katha

    मंगलवार के दिन हनुमान व्रत कथा Hanuman Vrat Katha

    पुराने समय की बात है एक ब्राह्मण दंपत्ति गाँव में रहता था। इस दम्पति की कोई संतान नहीं थी, जिस … Read more


    • राम आएँगे भजन | Ram Ayenge Bhajan Lyrics

      राम आएँगे भजन | Ram Ayenge Bhajan Lyrics

      मेरी झोपड़ी के भाग आज खुल जाएंगे, राम आएँगेमेरी झोपड़ी के भाग आज खुल जाएंगे, राम आएँगे राम आएँगे-आएँगे, राम … Read more


    • चक्र राज स्तोत्र |Chakra Raj Stotra

      चक्र राज स्तोत्र |Chakra Raj Stotra

      प्रोक्ता पञ्चदशी विद्या महात्रिपुरसुन्दरी । श्रीमहाषोडशी प्रोक्ता महामाहेश्वरी सदा ॥1॥ प्रोक्ता श्रीदक्षिणा काली महाराज्ञीति संज्ञया । लोके ख्याता महाराज्ञी नाम्ना … Read more


    • श्रीवेदान्तदेशिककृतं गोपालविंशतिस्तोत्रं

      श्रीवेदान्तदेशिककृतं गोपालविंशतिस्तोत्रं

      गोपाल विंशति स्तोत्रम् श्रीमान् वेंकटनाथार्यः कवितार्किककेसरी । वेदान्ताचार्यवर्यो मे सन्निधत्तां सदा हृदि ॥ वन्दे वृन्दावनचरं वलव्वीजनवल्लभम् । जयन्तीसम्भवं धाम वैजयन्तीविभूषणम् … Read more


    • श्री रूद्र सूक्त | Shri Rudra Sukta

      श्री रूद्र सूक्त | Shri Rudra Sukta

      ॐ नमस्ते रुद्र मन्यवऽ उतोतऽ इषवे नमः । बाहुभ्याम् उत ते नमः॥1॥या ते रुद्र शिवा तनूर-घोरा ऽपाप-काशिनी । तया नस्तन्वा … Read more


    • केले की पेड़ की पूजा का मंत्र

      केले की पेड़ की पूजा का मंत्र

      धर्मिक मान्यता के अनुसार भगवान श्रीहरि विष्णु को केला अति प्रिय है। इसलिए यह भी कहा जाता है की उनका … Read more


    • तुलसी दल तोड़ने के मन्त्र

      तुलसी दल तोड़ने के मन्त्र

      तुलसी दल तोड़ने के मन्त्र जब भी हम तुलसी पत्र तोड़े उससे पहले सदैव तुलसी माता को वंदन करके सबसे … Read more


Leave a comment