भगवद गीता अध्याय 18

अर्जुन उवाच
सन्न्यासस्य महाबाहो तत्त्वमिच्छामि वेदितुम्‌ ।
त्यागस्य च हृषीकेश पृथक्केशिनिषूदन ৷৷18.1৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : अर्जुन बोले- हे महाबाहो! हे अन्तर्यामिन्‌! हे वासुदेव! मैं संन्यास और त्याग के तत्व को पृथक्‌-पृथक्‌ जानना चाहता हूँ ৷৷18.1॥

Arjuna asked the Almighty Krishna: Please explain to me, Dear Lord, what it means to have truly RENOUNCED (surrendered from a materialistic nature) in this life.


श्रीभगवानुवाच
काम्यानां कर्मणा न्यासं सन्न्यासं कवयो विदुः ।
सर्वकर्मफलत्यागं प्राहुस्त्यागं विचक्षणाः ৷৷18.1৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : श्री भगवान बोले- कितने ही पण्डितजन तो काम्य कर्मों के (स्त्री, पुत्र और धन आदि प्रिय वस्तुओं की प्राप्ति के लिए तथा रोग-संकटादि की निवृत्ति के लिए जो यज्ञ, दान, तप और उपासना आदि कर्म किए जाते हैं, उनका नाम काम्यकर्म है।) त्याग को संन्यास समझते हैं तथा दूसरे विचारकुशल पुरुष सब कर्मों के फल के त्याग को (ईश्वर की भक्ति, देवताओं का पूजन, माता-पितादि गुरुजनों की सेवा, यज्ञ, दान और तप तथा वर्णाश्रम के अनुसार आजीविका द्वारा गृहस्थ का निर्वाह एवं शरीर संबंधी खान-पान इत्यादि जितने कर्तव्यकर्म हैं, उन सबमें इस लोक और परलोक की सम्पूर्ण कामनाओं के त्याग का नाम सब कर्मों के फल का त्याग है) त्याग कहते हैं ৷৷18.2॥

The Blessed Lord replied: If one entirely gives up all selfish motives, desires and actions, this is called true RENUNCIATION, and he who has given up all desires for rewards for all work he has accomplished, is considered by Me to have totally SURRENDERED from the material way of life.


त्याज्यं दोषवदित्येके कर्म प्राहुर्मनीषिणः ।
यज्ञदानतपःकर्म न त्याज्यमिति चापरे ৷৷18.2৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : कई एक विद्वान ऐसा कहते हैं कि कर्ममात्र दोषयुक्त हैं, इसलिए त्यागने के योग्य हैं और दूसरे विद्वान यह कहते हैं कि यज्ञ, दान और तपरूप कर्म त्यागने योग्य नहीं हैं ৷৷18.3॥

It is common for some people to say that constant constructive action disturbs people from fully concentrating on the Lord and his many beautiful qualities. Therefore, all performance of any task or responsibility should be renounced as well. However, still, other people say that all actions except those done for sacrifice, self-harmony, or gift-giving, should be given up.


निश्चयं श्रृणु में तत्र त्यागे भरतसत्तम ।
त्यागो हि पुरुषव्याघ्र त्रिविधः सम्प्रकीर्तितः ৷৷18.4৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : हे पुरुषश्रेष्ठ अर्जुन ! संन्यास और त्याग, इन दोनों में से पहले त्याग के विषय में तू मेरा निश्चय सुन। क्योंकि त्याग सात्विक, राजस और तामस भेद से तीन प्रकार का कहा गया है ৷৷18.4॥

Now My Dear Disciple, listen to Me as I disclose to you the true secret of surrendering and abandonment of materialism in this world. O Best of Men, there are three kinds of abandonment in this world that have been declared in this world by Me.


यज्ञदानतपःकर्म न त्याज्यं कार्यमेव तत्‌ ।
यज्ञो दानं तपश्चैव पावनानि मनीषिणाम्‌ ৷৷18.5৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : यज्ञ, दान और तपरूप कर्म त्याग करने के योग्य नहीं है, बल्कि वह तो अवश्य कर्तव्य है, क्योंकि यज्ञ, दान और तप -ये तीनों ही कर्म बुद्धिमान पुरुषों को (वह मनुष्य बुद्धिमान है, जो फल और आसक्ति को त्याग कर केवल भगवदर्थ कर्म करता है।) पवित्र करने वाले हैं ৷৷18.5॥

Tasks which involve works of sacrifice, gift-giving, and self-improvement should never be abandoned and should always be performed. I consider these acts, O Arjuna, to be those of purification and all those who are wise realize this fact.


एतान्यपि तु कर्माणि सङ्‍गं त्यक्त्वा फलानि च ।
कर्तव्यानीति में पार्थ निश्चितं मतमुत्तमम्‌ ৷৷18.6৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : इसलिए हे पार्थ! इन यज्ञ, दान और तपरूप कर्मों को तथा और भी सम्पूर्ण कर्तव्यकर्मों को आसक्ति और फलों का त्याग करके अवश्य करना चाहिए, यह मेरा निश्चय किया हुआ उत्तम मत है ৷৷18.6॥

However, dear Arjuna, these works of purification should be performed with freedom from attachment to material goods and without expectation of any rewards resulting from these actions. This, O Partha, is My decided and final word.


नियतस्य तु सन्न्यासः कर्मणो नोपपद्यते ।
मोहात्तस्य परित्यागस्तामसः परिकीर्तितः ৷৷18.7৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : (निषिद्ध और काम्य कर्मों का तो स्वरूप से त्याग करना उचित ही है) परन्तु नियत कर्म का (इसी अध्याय के श्लोक 48 की टिप्पणी में इसका अर्थ देखना चाहिए।) स्वरूप से त्याग करना उचित नहीं है। इसलिए मोह के कारण उसका त्याग कर देना तामस त्याग कहा गया है ৷৷18.7॥

The Blessed Lord Advised: O Arjuna, it would be unwise to leave the holy work that should be completed, unfinished, Such an abandonment of work and surrender from action is a sin and would be an act of darkness as well as delusion.


दुःखमित्येव यत्कर्म कायक्लेशभयात्त्यजेत्‌ ।
स कृत्वा राजसं त्यागं नैव त्यागफलं लभेत्‌ ৷৷18.8৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : जो कुछ कर्म है वह सब दुःखरूप ही है- ऐसा समझकर यदि कोई शारीरिक क्लेश के भय से कर्तव्य-कर्मों का त्याग कर दे, तो वह ऐसा राजस त्याग करके त्याग के फल को किसी प्रकार भी नहीं पाता ৷৷18.8॥

O Arjuna, he who abandons his duties because he fears that some discomfort or pain will come to him by performing these duties, is of the Rajas Guna (nature) and his way of surrendering from work is a sign of this nature within him. You must realize, O Arjuna, that person actually accomplishes nothing when he performs his various tasks.


कार्यमित्येव यत्कर्म नियतं क्रियतेअर्जुन ।
सङ्‍गं त्यक्त्वा फलं चैव स त्यागः सात्त्विको मतः ৷৷18.9৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : हे अर्जुन! जो शास्त्रविहित कर्म करना कर्तव्य है- इसी भाव से आसक्ति और फल का त्याग करके किया जाता है- वही सात्त्विक त्याग माना गया है ৷৷18.9॥

But, O son of Kunti, he who partakes in these holy tasks, O Arjuna, only because he knows that it is his duty to accomplish them, and at the same time forsakes all selfish desires and thoughts of receiving rewards, is considered by Me to be a man of ‘goodness.’ Because of performing his pure work, this man produces only peace, divine joy, and other SAATVIC results.


न द्वेष्ट्यकुशलं कर्म कुशले नानुषज्जते ।
त्यागी सत्त्वसमाविष्टो मेधावी छिन्नसंशयः ৷৷18.10৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : जो मनुष्य अकुशल कर्म से तो द्वेष नहीं करता और कुशल कर्म में आसक्त नहीं होता- वह शुद्ध सत्त्वगुण से युक्त पुरुष संशयरहित, बुद्धिमान और सच्चा त्यागी है ৷৷18.10॥

This wiseman, whose doubts no longer exist, who has learned the real truth about renunciation in this world, is a pure and SAATVIC man of peace. Whether a particular task is pleasant or painful to perform, he receives joy from accomplishing it.


न हि देहभृता शक्यं त्यक्तुं कर्माण्यशेषतः ।
यस्तु कर्मफलत्यागी स त्यागीत्यभिधीयते ৷৷18.11৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : क्योंकि शरीरधारी किसी भी मनुष्य द्वारा सम्पूर्णता से सब कर्मों का त्याग किया जाना शक्य नहीं है, इसलिए जो कर्मफल त्यागी है, वही त्यागी है- यह कहा जाता है ৷৷18.11॥

Understand, Best of Men (Arjuna), that a mortal being cannot easily surrender and abstain entirely from work in this world. But it is possible for a person to surrender himself totally, from desiring rewards from the work he accomplishes. In My eyes dear Arjuna, he who does this, is one who has truly renounced this material world.


अनिष्टमिष्टं मिश्रं च त्रिविधं कर्मणः फलम्‌ ।
भवत्यत्यागिनां प्रेत्य न तु सन्न्यासिनां क्वचित्‌ ৷৷18.12৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : कर्मफल का त्याग न करने वाले मनुष्यों के कर्मों का तो अच्छा, बुरा और मिला हुआ- ऐसे तीन प्रकार का फल मरने के पश्चात अवश्य होता है, किन्तु कर्मफल का त्याग कर देने वाले मनुष्यों के कर्मों का फल किसी काल में भी नहीं होता ৷৷18.12॥

When a man perform duties (or work) of any kind only for the sake of reward, the work at times either brings pleasure or certain occasions, pain. However dear Arjuna, he who does work for the sake of gaining Eternal Happiness (by union with Me), he undoubtfully receives this Eternal and Infinite Bliss.


कर्मों के होने में सांख्यसिद्धांत का कथन
पञ्चैतानि महाबाहो कारणानि निबोध मे ।
साङ्ख्ये कृतान्ते प्रोक्तानि सिद्धये सर्वकर्मणाम्‌ ৷৷18.13৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : हे महाबाहो! सम्पूर्ण कर्मों की सिद्धि के ये पाँच हेतु कर्मों का अंत करने के लिए उपाय बतलाने वाले सांख्य-शास्त्र में कहे गए हैं, उनको तू मुझसे भलीभाँति जान ৷৷18.13॥

O Mighty-armed Arjuna, learn and realize from Me the five causes of all the actions in this world as stated in the holy SAMKHYA (one of the philosophical teachings on the subject of KARMA in the VEDANTA) in which all the end results of all actions are found.


अधिष्ठानं तथा कर्ता करणं च पृथग्विधम्‌ ।
विविधाश्च पृथक्चेष्टा दैवं चैवात्र पञ्चमम्‌ ৷৷18.14৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : इस विषय में अर्थात कर्मों की सिद्धि में अधिष्ठान (जिसके आश्रय कर्म किए जाएँ, उसका नाम अधिष्ठान है) और कर्ता तथा भिन्न-भिन्न प्रकार के करण (जिन-जिन इंद्रियादिकों और साधनों द्वारा कर्म किए जाते हैं, उनका नाम करण है) एवं नाना प्रकार की अलग-अलग चेष्टाएँ और वैसे ही पाँचवाँ हेतु दैव (पूर्वकृत शुभाशुभ कर्मों के संस्कारों का नाम दैव है) है ৷৷18.14॥

The Lord described the five causes of action: The body itself, is the first. The second is the owner of the body who actually performs the action. The third is the various senses of the body, which allow perception of the world. The fourth is the different functions performed by the being and finally the Super-Soul within the being.


शरीरवाङ्‍मनोभिर्यत्कर्म प्रारभते नरः ।
न्याय्यं वा विपरीतं वा पञ्चैते तस्य हेतवः৷৷18.15৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : मनुष्य मन, वाणी और शरीर से शास्त्रानुकूल अथवा विपरीत जो कुछ भी कर्म करता है- उसके ये पाँचों कारण हैं ৷৷18.15॥

Whether a being’s means of actions are his body, mind, or speech, all of his actions whether good or bad. are caused by these five factors.


तत्रैवं सति कर्तारमात्मानं केवलं तु यः ।
पश्यत्यकृतबुद्धित्वान्न स पश्यति दुर्मतिः ৷৷18.16৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : परन्तु ऐसा होने पर भी जो मनुष्य अशुद्ध बुद्धि (सत्संग और शास्त्र के अभ्यास से तथा भगवदर्थ कर्म और उपासना के करने से मनुष्य की बुद्धि शुद्ध होती है, इसलिए जो उपर्युक्त साधनों से रहित है, उसकी बुद्धि अशुद्ध है, ऐसा समझना चाहिए।) होने के कारण उस विषय में यानी कर्मों के होने में केवल शुद्ध स्वरूप आत्मा को कर्ता समझता है, वह मलीन बुद्धि वाला अज्ञानी यथार्थ नहीं समझता ৷৷18.16॥

Therefore dear Arjuna, He who looks upon himself as the doer of all his actions, disregarding all of the five actual causes of action, has clouded vision, deluded intelligence, and cannot see things as they really are.


यस्य नाहङ्‍कृतो भावो बुद्धिर्यस्य न लिप्यते ।
हत्वापि स इमाँल्लोकान्न हन्ति न निबध्यते ৷৷18.17৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : जिस पुरुष के अन्तःकरण में ‘मैं कर्ता हूँ’ ऐसा भाव नहीं है तथा जिसकी बुद्धि सांसारिक पदार्थों में और कर्मों में लिपायमान नहीं होती, वह पुरुष इन सब लोकों को मारकर भी वास्तव में न तो मरता है और न पाप से बँधता है। (जैसे अग्नि, वायु और जल द्वारा प्रारब्धवश किसी प्राणी की हिंसा होती देखने में आए तो भी वह वास्तव में हिंसा नहीं है, वैसे ही जिस पुरुष का देह में अभिमान नहीं है और स्वार्थरहित केवल संसार के हित के लिए ही जिसकी सम्पूर्ण क्रियाएँ होती हैं, उस पुरुष के शरीर और इन्द्रियों द्वारा यदि किसी प्राणी की हिंसा होती हुई लोकदृष्टि में देखी जाए, तो भी वह वास्तव में हिंसा नहीं है क्योंकि आसक्ति, स्वार्थ और अहंकार के न होने से किसी प्राणी की हिंसा हो ही नहीं सकती तथा बिना कर्तृत्वाभिमान के किया हुआ कर्म वास्तव में अकर्म ही है, इसलिए वह पुरुष ‘पाप से नहीं बँधता’।) ৷৷18.17॥

He who is free from the bondages of selfishness, and is rid of all ill thoughts, and desires, even if he kills others in this world, he is not actually killing them (because he, in effect, is carrying out his prescribed duty which is actually the predetermined will of God). This person is not bound to this world by his actions in any way whatsoever, O Arjuna.


ज्ञानं ज्ञेयं परिज्ञाता त्रिविधा कर्मचोदना ।
करणं कर्म कर्तेति त्रिविधः कर्मसङ्ग्रहः ৷৷18.18৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : ज्ञाता (जानने वाले का नाम ‘ज्ञाता’ है।), ज्ञान (जिसके द्वारा जाना जाए, उसका नाम ‘ज्ञान’ है। ) और ज्ञेय (जानने में आने वाली वस्तु का नाम ‘ज्ञेय’ है।)- ये तीनों प्रकार की कर्म-प्रेरणा हैं और कर्ता (कर्म करने वाले का नाम ‘कर्ता’ है।), करण (जिन साधनों से कर्म किया जाए, उनका नाम ‘करण’ है।) तथा क्रिया (करने का नाम ‘क्रिया’ है।)- ये तीनों प्रकार का कर्म-संग्रह है ৷৷18.18॥

Arjuna, there are three instigators (stimuli) of action in this world namely, knowledge itself (that which is perceived through the senses and interpreted by a being through his mind and intellect), the object of knowledge (that which a being uses to receive his knowledge and ultimately gains his intelligence from after he perceives the useful information through his senses), and of course the knower (who is the SELF or the JIVATMAN – that which receives and is affected by the stimulus to perform the action of learning). The three factors involved in the accomplishment of any task are the senses, the actual work and the performer of the work.


ज्ञानं कर्म च कर्ता च त्रिधैव गुणभेदतः ।
प्रोच्यते गुणसङ्ख्याने यथावच्छ्णु तान्यपि ৷৷18.19৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : गुणों की संख्या करने वाले शास्त्र में ज्ञान और कर्म तथा कर्ता गुणों के भेद से तीन-तीन प्रकार के ही कहे गए हैं, उनको भी तु मुझसे भलीभाँति सुन ৷৷18.19॥

Now Arjuna, listen as I tell you the different kinds of knowledge, types of work, and the different categories of workers, that have been stated in the terms outlined by the philosophies of the three modes of material nature.


न जायते म्रियते वा कदाचि-
न्नायं भूत्वा भविता वा न भूयः ।
अजो नित्यः शाश्वतोऽयं पुराणो-
न हन्यते हन्यमाने शरीरे ॥2.20॥

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : जिस ज्ञान से मनुष्य पृथक-पृथक सब भूतों में एक अविनाशी परमात्मभाव को विभागरहित समभाव से स्थित देखता है, उस ज्ञान को तू सात्त्विक जान ৷৷18.20॥

When one can see Eternity, Infinity, and an undivided spiritual nature in things that are mortal, perishable, and divided in their spiritual nature, he has acquired the pure SAATVIC knowledge (or the knowledge of ‘goodness,’ concerning the spiritual soul beyond the body).


पृथक्त्वेन तु यज्ज्ञानं नानाभावान्पृथग्विधान्‌ ।
वेत्ति सर्वेषु भूतेषु तज्ज्ञानं विद्धि राजसम्‌ ৷৷18.21৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : किन्तु जो ज्ञान अर्थात जिस ज्ञान के द्वारा मनुष्य सम्पूर्ण भूतों में भिन्न-भिन्न प्रकार के नाना भावों को अलग-अलग जानता है, उस ज्ञान को तू राजस जान ৷৷18.21॥

However, Partha, if one can only see the multitude of things in this world in terms of their limitations and divisions, then this being possesses the impure knowledge of the Rajas mode of nature. (This passionately natured person possesses knowledge that is derived from many theories, teachings, mental logic, and speculation that exist in this world).


यत्तु कृत्स्नवदेकस्मिन्कार्ये सक्तमहैतुकम्‌।
अतत्त्वार्थवदल्पंच तत्तामसमुदाहृतम्‌৷৷18.22৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : परन्तु जो ज्ञान एक कार्यरूप शरीर में ही सम्पूर्ण के सदृश आसक्त है तथा जो बिना युक्तिवाला, तात्त्विक अर्थ से रहित और तुच्छ है- वह तामस कहा गया है ৷৷18.22॥

However dear Arjuna, if one selfishly views one particular thing (namely the body) as if it is all and everything that is to be concerned about, the knowledge he possesses does not allow him to see beyond the perishable objects and beings in this world. He considers himself the one and only, independent, and seperate from all other beings in this world. This being, O Arjuna, possesses the TAMSIC knowledge of darkness that is clouded by ignorance. (The being that possesses this knowledge does not realize that there is an entity that is beyond the realm of mortal human beings. He is ignorant of the fact that the Lord is the indestructible Entity or Divine Form, above all beings in this world. This being cares about nothing more than keeping the body comfortable, and devotes his whole life to satisfying the needs of his own body. He looks upon God as a destructible object and is ignorant of the fact that the Lord is not a perishable entity but a Super-Soul and the Eternal Spirit who is much higher than any human).


नियतं सङ्‍गरहितमरागद्वेषतः कृतम।
अफलप्रेप्सुना कर्म यत्तत्सात्त्विकमुच्यते৷৷18.23৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : जो कर्म शास्त्रविधि से नियत किया हुआ और कर्तापन के अभिमान से रहित हो तथा फल न चाहने वाले पुरुष द्वारा बिना राग-द्वेष के किया गया हो- वह सात्त्विक कहा जाता है ৷৷18.23॥

The Blessed Lord explained: When work is done as if it were a sacred task, Without any selfish, motives, with a peaceful mind, without any feelings of lust and hate, and without any desire for rewards, I consider this work to be pure and SATTVIC.


यत्तु कामेप्सुना कर्म साहङ्‍कारेण वा पुनः।
क्रियते बहुलायासं तद्राजसमुदाहृतम्‌৷৷18.24৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : परन्तु जो कर्म बहुत परिश्रम से युक्त होता है तथा भोगों को चाहने वाले पुरुष द्वारा या अहंकारयुक्त पुरुष द्वारा किया जाता है, वह कर्म राजस कहा गया है ৷৷18.24॥

But when any task is completed with selfish desires in mind, looked upon as an effort and nothing more, looked upon as if it was a great sacrifice to have completed a task, this type of work is impure and only performed by Rajas-natured people.


अनुबन्धं क्षयं हिंसामनवेक्ष्य च पौरुषम्‌ ।
मोहादारभ्यते कर्म यत्तत्तामसमुच्यते৷৷18.25৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : जो कर्म परिणाम, हानि, हिंसा और सामर्थ्य को न विचारकर केवल अज्ञान से आरंभ किया जाता है, वह तामस कहा जाता है ৷৷18.25॥

The work which one completes with a confused mind and deluded intelligence, without any cares about the horrible consequences that might result from his selfish tasks; work that is done without concern for the bondage that it creates for the performer; work done without any heed to injury or harm that might come to others because of one’s (evil) actions; or work accomplished without worrying about one’s own loss; these are work done out of darkness by those who are known as Tamsic-natured people.


अथ मुक्तसङ्‍गोऽनहंवादी धृत्युत्साहसमन्वितः ।
सिद्धयसिद्धयोर्निर्विकारः कर्ता सात्त्विक उच्यते৷৷18.26৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : जो कर्ता संगरहित, अहंकार के वचन न बोलने वाला, धैर्य और उत्साह से युक्त तथा कार्य के सिद्ध होने और न होने में हर्ष -शोकादि विकारों से रहित है- वह सात्त्विक कहा जाता है ৷৷18.26॥

A man who is free from the bondages of selfish and material attachments, who is without a false ego, unaffected by material desires or the fluctuations between success and failure, and who has enthusiasm, is said to be a man of the Saatvic-nature and in the mode of goodness.


रागी कर्मफलप्रेप्सुर्लुब्धो हिंसात्मकोऽशुचिः।
हर्षशोकान्वितः कर्ता राजसः परिकीर्तितः৷৷18.27৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : जो कर्ता आसक्ति से युक्त कर्मों के फल को चाहने वाला और लोभी है तथा दूसरों को कष्ट देने के स्वभाववाला, अशुद्धाचारी और हर्ष-शोक से लिप्त है वह राजस कहा गया है ৷৷18.27॥॥27॥

The worker who is over-attached to his work and activity, and to the results of his work, who wants to enjoy the good results, who is always jealous of the other’s possessions, is selfish, greedy, violent, impure, and who is affected by both pleasure and pain, is a man of the impure, Rajas-nature.


आयुक्तः प्राकृतः स्तब्धः शठोनैष्कृतिकोऽलसः ।
विषादी दीर्घसूत्री च कर्ता तामस उच्यते৷৷18.28৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : जो कर्ता अयुक्त, शिक्षा से रहित घमंडी, धूर्त और दूसरों की जीविका का नाश करने वाला तथा शोक करने वाला, आलसी और दीर्घसूत्री (दीर्घसूत्री उसको कहा जाता है कि जो थोड़े काल में होने लायक साधारण कार्य को भी फिर कर लेंगे, ऐसी आशा से बहुत काल तक नहीं पूरा करता। ) है वह तामस कहा जाता है ৷৷18.28॥

A person whose behaviour is marked by ignorance, conceit, vulgarity, deceit, maliciousness, offence to others, laziness, without self-harmony, procrastination, materialism, and speaking and doing things against the Holy Scriptures, is said to be a man who possesses the dark and ignorant Tamas-personality.


बुद्धेर्भेदं धृतेश्चैव गुणतस्त्रिविधं श्रृणु ।
प्रोच्यमानमशेषेण पृथक्त्वेन धनंजय ৷৷18.29৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : हे धनंजय ! अब तू बुद्धि का और धृति का भी गुणों के अनुसार तीन प्रकार का भेद मेरे द्वारा सम्पूर्णता से विभागपूर्वक कहा जाने वाला सुन ৷৷18.29॥

Now Arjuna, hear and understand as I reveal to you the three divisions of wisdom and stability of the mind, according to the three GUNAS (modes of nature).


प्रवत्तिं च निवृत्तिं च कार्याकार्ये भयाभये।
बन्धं मोक्षं च या वेति बुद्धिः सा पार्थ सात्त्विकी ৷৷18.30৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : हे पार्थ ! जो बुद्धि प्रवृत्तिमार्ग (गृहस्थ में रहते हुए फल और आसक्ति को त्यागकर भगवदर्पण बुद्धि से केवल लोकशिक्षा के लिए राजा जनक की भाँति बरतने का नाम ‘प्रवृत्तिमार्ग’ है।) और निवृत्ति मार्ग को (देहाभिमान को त्यागकर केवल सच्चिदानंदघन परमात्मा में एकीभाव स्थित हुए श्री शुकदेवजी और सनकादिकों की भाँति संसार से उपराम होकर विचरने का नाम ‘निवृत्तिमार्ग’ है।), कर्तव्य और अकर्तव्य को, भय और अभय को तथा बंधन और मोक्ष को यथार्थ जानती है- वह बुद्धि सात्त्विकी है ৷৷18.30॥

Pure and SAATVIC wisdom, O Partha, is that which one possesses when one knows when to go to a certain point and when to return; what should and should not be done; what fear is and what courage is; and who recognizes the difference between bondage to this world and freedom from it.


यया धर्ममधर्मं च कार्यं चाकार्यमेव च।
अयथावत्प्रजानाति बुद्धिः सा पार्थ राजसी৷৷18.31৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : हे पार्थ! मनुष्य जिस बुद्धि के द्वारा धर्म और अधर्म को तथा कर्तव्य और अकर्तव्य को भी यथार्थ नहीं जानता, वह बुद्धि राजसी है ৷৷18.31॥॥

The wisdom which is characterized by a lack of understanding of what should and should not be done; between what is religious and non-religious activity; between what is right and wrong; and when a person constantly mistakes action to be performed, with action not to be performed, that person has impure, passionate, or Rajas wisdom.


अधर्मं धर्ममिति या मन्यते तमसावृता।
सर्वार्थान्विपरीतांश्च बुद्धिः सा पार्थ तामसी৷৷18.32৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : हे अर्जुन! जो तमोगुण से घिरी हुई बुद्धि अधर्म को भी ‘यह धर्म है’ ऐसा मान लेती है तथा इसी प्रकार अन्य संपूर्ण पदार्थों को भी विपरीत मान लेती है, वह बुद्धि तामसी है ৷৷18.32॥

O Arjuna, there is wisdom obscured in darkness and ignorance. A being possesses this TAMAS reasoning if he thinks that wrong is right; if he is always under illusions and misconceptions about truths in this world, and considers religious tasks and devilish tasks to be one and the same.


धृत्या यया धारयते मनःप्राणेन्द्रियक्रियाः।
योगेनाव्यभिचारिण्या धृतिः सा पार्थ सात्त्विकी ৷৷18.33৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : हे पार्थ! जिस अव्यभिचारिणी धारण शक्ति (भगवद्विषय के सिवाय अन्य सांसारिक विषयों को धारण करना ही व्यभिचार दोष है, उस दोष से जो रहित है वह ‘अव्यभिचारिणी धारणा’ है।) से मनुष्य ध्यान योग के द्वारा मन, प्राण और इंद्रियों की क्रियाओं ( मन, प्राण और इंद्रियों को भगवत्प्राप्ति के लिए भजन, ध्यान और निष्काम कर्मों में लगाने का नाम ‘उनकी क्रियाओं को धारण करना’ है।) को धारण करता है, वह धृति सात्त्विकी है ৷৷18.33॥

O Partha, while practising Yoga and full concentration on Me (who resides in the soul of every being), unbreakable determination and stability of mind is developed and sustained. The practice of YOGA harmoniously balances the mind and a being’s every breath of life. This pure STEADINESS and stability is known to be found in those who are of the SAATVIC- natured.


यया तु धर्मकामार्थान्धत्य धारयतेऽर्जुन। प्रसङ्‍गेन फलाकाङ्क्षी धृतिः सा पार्थ राजसी৷৷18.34৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : परंतु हे पृथापुत्र अर्जुन! फल की इच्छावाला मनुष्य जिस धारण शक्ति के द्वारा अत्यंत आसक्ति से धर्म, अर्थ और कामों को धारण करता है, वह धारण शक्ति राजसी है ৷৷18.34॥

That steadiness which cannot overcome unreality. fearfulness, laziness, depression, lust, illusion, and self-pity, is foolish steadiness and is undoubtedly one belonging the dark TAMAS-nature.


यया स्वप्नं भयं शोकं विषादं मदमेव च। न विमुञ्चति दुर्मेधा धृतिः सा पार्थ तामसी৷৷18.35৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : हे पार्थ! दुष्ट बुद्धिवाला मनुष्य जिस धारण शक्ति के द्वारा निद्रा, भय, चिंता और दु:ख को तथा उन्मत्तता को भी नहीं छोड़ता अर्थात धारण किए रहता है- वह धारण शक्ति तामसी है ৷৷18.35॥

O ARJUNA, your high esteem and reputation will become ruined if you do not fight this battle. The mighty warriors will consider you lower than them and will believe that you did not fight the battle because you feared the opponent.


सुखं त्विदानीं त्रिविधं श्रृणु मे भरतर्षभ।
अभ्यासाद्रमते यत्र दुःखान्तं च निगच्छति৷৷18.36৷৷2.36॥

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : तेरे वैरी लोग तेरे सामर्थ्य की निंदा करते हुए तुझे बहुत से न कहने योग्य वचन भी कहेंगे, उससे अधिक दुःख और क्या होगा?॥36॥

You will experience tremendous pain when your enemies laugh at your lack of strength and courage and say many shameful and humiliating things about you, O ARJUNA.


यत्तदग्रे विषमिव परिणामेऽमृतोपमम्‌। तत्सुखं सात्त्विकं प्रोक्तमात्मबुद्धिप्रसादजम्‌৷৷18.37৷৷ ॥2.37॥

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : हे भरतश्रेष्ठ! अब तीन प्रकार के सुख को भी तू मुझसे सुन। जिस सुख में साधक मनुष्य भजन, ध्यान और सेवादि के अभ्यास से रमण करता है और जिससे दुःखों के अंत को प्राप्त हो जाता है, जो ऐसा सुख है, वह आरंभकाल में यद्यपि विष के तुल्य प्रतीत (जैसे खेल में आसक्ति वाले बालक को विद्या का अभ्यास मूढ़ता के कारण प्रथम विष के तुल्य भासता है वैसे ही विषयों में आसक्ति वाले पुरुष को भगवद्भजन, ध्यान, सेवा आदि साधनाओं का अभ्यास मर्म न जानने के कारण प्रथम ‘विष के तुल्य प्रतीत होता’ है) होता है, परन्तु परिणाम में अमृत के तुल्य है, इसलिए वह परमात्मविषयक बुद्धि के प्रसाद से उत्पन्न होने वाला सुख सात्त्विक कहा गया है ৷৷18.36-37॥

O ARJUNA, Now great Arjuna, I will disclose to you the three types of pleasure that exist in this world. There is a divine and pure pleasure that one receives from following the righteous path of ‘Light and Goodness.’ This path leads to the end of all hardship. The Blessed Lord Spoke: O Arjuna, that which in the beginning may seem to be the cup of sorrow but is found in the end to be the cup of sweet nectar, refreshes one to the state of self-realization. This, My Dear Devotee, is pure pleasure and happiness which allows one to clearly see and feel Me, the Spirit within their hearts. This pleasure is known as the SAATVIC pleasure, O Arjuna.


विषयेन्द्रियसंयोगाद्यत्तदग्रेऽमृतोपमम्‌।
परिणामे विषमिव तत्सुखं राजसं स्मृतम्‌৷৷18.38৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : जो सुख विषय और इंद्रियों के संयोग से होता है, वह पहले- भोगकाल में अमृत के तुल्य प्रतीत होने पर भी परिणाम में विष के तुल्य (बल, वीर्य, बुद्धि, धन, उत्साह और परलोक का नाश होने से विषय और इंद्रियों के संयोग से होने वाले सुख को ‘परिणाम में विष के तुल्य’ कहा है) है इसलिए वह सुख राजस कहा गया है ৷৷18.38॥

However O Arjuna, pleasure which is derived immediately from the contact of the senses with their objects, appears to the human senses as the sweet nectar at first, but later it is discovered to be nothing more than poison to one’s own being. This pleasure is known as the Rajas pleasure of passion.


यदग्रे चानुबन्धे च सुखं मोहनमात्मनः।
निद्रालस्यप्रमादोत्थं तत्तामसमुदाहृतम्‌৷৷18.39৷৷ 2.39॥

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : जो सुख भोगकाल में तथा परिणाम में भी आत्मा को मोहित करने वाला है, वह निद्रा, आलस्य और प्रमाद से उत्पन्न सुख तामस कहा गया है ৷৷18.39॥ br>
That type of pleasure which blinds one to the path leading to true self-harmony and self-realization, both in the beginning as well as in the end, is known as the TAMAS pleasure. This pleasure is derived from drowziness, laziness, carelessness and illusion. Instead of bringing divine happiness to the soul, it deludes the soul and darkness surrounds it.


यनेहाभिक्रमनाशोऽस्ति प्रत्यवातो न विद्यते ।
स्वल्पमप्यस्य धर्मस्य त्रायते महतो भयात्‌ ॥2.40॥

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : पृथ्वी में या आकाश में अथवा देवताओं में तथा इनके सिवा और कहीं भी ऐसा कोई भी सत्त्व नहीं है, जो प्रकृति से उत्पन्न इन तीनों गुणों से रहित हो ৷৷18.40॥

Nothing exists, either on the face of this earth or among the Demi- gods in heaven, which is free from the three powers of nature, dear Bharata,


फल सहित वर्ण धर्म का विषय

ब्राह्मणक्षत्रियविशां शूद्राणां च परन्तप।
कर्माणि प्रविभक्तानि स्वभावप्रभवैर्गुणैः৷৷18.41৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : हे अर्जुन! इस कर्मयोग में निश्चयात्मिका बुद्धि एक ही होती है, किन्तु अस्थिर विचार वाले विवेकहीन सकाम मनुष्यों की बुद्धियाँ निश्चय ही बहुत भेदों वाली और अनन्त होती हैं॥41॥

O Arjuna, all the different qualities of work of the various casts in society, namely the Brahmins, Kshastriyas, Vaisyas, and Sudras are determined according to the three modes of nature.


शमो दमस्तपः शौचं क्षान्तिरार्जवमेव च।
ज्ञानं विज्ञानमास्तिक्यं ब्रह्मकर्म स्वभावजम्‌ ৷৷18.42

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : अंतःकरण का निग्रह करना, इंद्रियों का दमन करना, धर्मपालन के लिए कष्ट सहना, बाहर-भीतर से शुद्ध (गीता अध्याय 13 श्लोक 7 की टिप्पणी में देखना चाहिए) रहना, दूसरों के अपराधों को क्षमा करना, मन, इंद्रिय और शरीर को सरल रखना, वेद, शास्त्र, ईश्वर और परलोक आदि में श्रद्धा रखना, वेद-शास्त्रों का अध्ययन-अध्यापन करना और परमात्मा के तत्त्व का अनुभव करना- ये सब-के-सब ही ब्राह्मण के स्वाभाविक कर्म हैं ৷৷18.42॥हैं, वे अविवेकीजन इस प्रकार की जिस पुष्पित अर्थात्‌ दिखाऊ शोभायुक्त वाणी को कहा करते हैं, जो कि जन्मरूप कर्मफल देने वाली एवं भोग तथा ऐश्वर्य की प्राप्ति के लिए नाना प्रकार की बहुत-सी क्रियाओं का वर्णन करने वाली है, उस वाणी द्वारा जिनका चित्त हर लिया गया है, जो भोग और ऐश्वर्य में अत्यन्त आसक्त हैं, उन पुरुषों की परमात्मा में निश्चियात्मिका बुद्धि नहीं होती॥42-44॥

Now, O Arjuna, let Me describe to you all of these individual members of society: The works of the Brahmins are characterized by such qualities as, peacefulness, self-control, purity, tolerance, honesty, faith, righteousness,and wisdom.


शौर्यं तेजो धृतिर्दाक्ष्यं युद्धे चाप्यपलायनम्‌।
दानमीश्वरभावश्च क्षात्रं कर्म स्वभावजम्‌৷৷18.43৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : शूरवीरता, तेज, धैर्य, चतुरता और युद्ध में न भागना, दान देना और स्वामिभाव- ये सब-के-सब ही क्षत्रिय के स्वाभाविक कर्म हैं ৷৷18.43॥

The valiant work of the Kshastriyas are marked by their heroic minds, power, resourcefulness, determination, courage in battle, generosity in charity and noble leadership.


कृषिगौरक्ष्यवाणिज्यं वैश्यकर्म स्वभावजम्‌।
परिचर्यात्मकं कर्म शूद्रस्यापि स्वभावजम्‌৷৷18.44৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : खेती, गोपालन और क्रय-विक्रय रूप सत्य व्यवहार (वस्तुओं के खरीदने और बेचने में तौल, नाप और गिनती आदि से कम देना अथवा अधिक लेना एवं वस्तु को बदलकर या एक वस्तु में दूसरी या खराब वस्तु मिलाकर दे देना अथवा अच्छी ले लेना तथा नफा, आढ़त और दलाली ठहराकर उससे अधिक दाम लेना या कम देना तथा झूठ, कपट, चोरी और जबरदस्ती से अथवा अन्य किसी प्रकार से दूसरों के हक को ग्रहण कर लेना इत्यादि दोषों से रहित जो सत्यतापूर्वक पवित्र वस्तुओं का व्यापार है उसका नाम ‘सत्य व्यवहार’ है।) ये वैश्य के स्वाभाविक कर्म हैं तथा सब वर्णों की सेवा करना शूद्र का भी स्वाभाविक कर्म है ৷৷18.44॥

The Vaisyas and the Sudras are known to provide the services of farming, rearing cattle, and agricultural trade for society..


स्वे स्वे कर्मण्यभिरतः संसिद्धिं लभते नरः।
स्वकर्मनिरतः सिद्धिं यथा विन्दति तच्छृणु৷৷18.45৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : अपने-अपने स्वाभाविक कर्मों में तत्परता से लगा हुआ मनुष्य भगवत्प्राप्ति रूप परमसिद्धि को प्राप्त हो जाता है। अपने स्वाभाविक कर्म में लगा हुआ मनुष्य जिस प्रकार से कर्म करके परमसिद्धि को प्राप्त होता है, उस विधि को तू सुन ৷৷18.45॥

All of these people who are the various components that make up society, attain the truest state of perfection when they perform their work while at the same time find great joy and happiness in performing their designated tasks.


यतः प्रवृत्तिर्भूतानां येन सर्वमिदं ततम्‌।
स्वकर्मणा तमभ्यर्च्य सिद्धिं विन्दति मानवः৷৷18.46৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : जिस परमेश्वर से संपूर्ण प्राणियों की उत्पत्ति हुई है और जिससे यह समस्त जगत्‌ व्याप्त है (जैसे बर्फ जल से व्याप्त है, वैसे ही संपूर्ण संसार सच्चिदानंदघन परमात्मा से व्याप्त है), उस परमेश्वर की अपने स्वाभाविक कर्मों द्वारा पूजा करके (जैसे पतिव्रता स्त्री पति को सर्वस्व समझकर पति का चिंतन करती हुई पति के आज्ञानुसार पति के ही लिए मन, वाणी, शरीर से कर्म करती है, वैसे ही परमेश्वर को ही सर्वस्व समझकर परमेश्वर का चिंतन करते हुए परमेश्वर की आज्ञा के अनुसार मन, वाणी और शरीर से परमेश्वर के ही लिए स्वाभाविक कर्तव्य कर्म का आचरण करना ‘कर्म द्वारा परमेश्वर को पूजना’ है) मनुष्य परमसिद्धि को प्राप्त हो जाता है ৷৷18.46॥

They all reach perfection while performing their various designated tasks in society and of course by worship of the Lord, who is the maker and source of all existence (and beyond) in this world. O Arjuna, listen carefully now as I explain how a man achieves perfection while still finding joy in his duties and other work in this world.


श्रेयान्स्वधर्मो विगुणः परधर्मात्स्वनुष्ठितात्‌।
स्वभावनियतं कर्म कुर्वन्नाप्नोति किल्बिषम्‌৷৷18.47৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : अच्छी प्रकार आचरण किए हुए दूसरे के धर्म से गुणरहित भी अपना धर्म श्रेष्ठ है, क्योंकि स्वभाव से नियत किए हुए स्वधर्मरूप कर्म को करता हुआ मनुष्य पाप को नहीं प्राप्त होता ৷৷18.47॥

O Arjuna, it is far better to perform one’s own tasks imperfectly rather than to perform someone else’s tasks with perfection. When a man does the work that is prescribed to him, no sins or sinful desires can affect this man.


सहजं कर्म कौन्तेय सदोषमपि न त्यजेत्‌।
सर्वारम्भा हि दोषेण धूमेनाग्निरिवावृताः৷৷18.48৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : अतएव हे कुन्तीपुत्र! दोषयुक्त होने पर भी सहज कर्म (प्रकृति के अनुसार शास्त्र विधि से नियत किए हुए वर्णाश्रम के धर्म और सामान्य धर्मरूप स्वाभाविक कर्म हैं उनको ही यहाँ स्वधर्म, सहज कर्म, स्वकर्म, नियत कर्म, स्वभावज कर्म, स्वभावनियत कर्म इत्यादि नामों से कहा है) को नहीं त्यागना चाहिए, क्योंकि धूएँ से अग्नि की भाँति सभी कर्म किसी-न-किसी दोष से युक्त हैं ৷৷18.48॥

A man should never foresake his own tasks, even if he cannot complete them in full perfection, simply because it is a known fact that every (human) endeavour consists of some fault or imperfection just as all fire consists of smoke.


ज्ञाननिष्ठा का विषय


असक्तबुद्धिः सर्वत्र जितात्मा विगतस्पृहः।
नैष्कर्म्यसिद्धिं परमां सन्न्यासेनाधिगच्छति৷৷18.49৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : सर्वत्र आसक्तिरहित बुद्धिवाला, स्पृहारहित और जीते हुए अंतःकरण वाला पुरुष सांख्ययोग के द्वारा उस परम नैष्कर्म्यसिद्धि को प्राप्त होता है ৷৷18.49॥

When a man’s ultimate goal is to achieve freedom from material bondage in this world, and his soul is divine and in pure harmony, he can attain the results of RENUNCIATION (detachment from material objects) which thus, leads him to the Supreme Region of Peace, Happiness and Bliss, which is with Me, in glorious heaven.


सिद्धिं प्राप्तो यथा ब्रह्म तथाप्नोति निबोध मे।
समासेनैव कौन्तेय निष्ठा ज्ञानस्य या परा৷৷18.50৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : जो कि ज्ञान योग की परानिष्ठा है, उस नैष्कर्म्य सिद्धि को जिस प्रकार से प्राप्त होकर मनुष्य ब्रह्म को प्राप्त होता है, उस प्रकार को हे कुन्तीपुत्र! तू संक्षेप में ही मुझसे समझ ৷৷18.50॥

Hear now, Arjuna, as I reveal to you how one reaches the highest and most perfect stage of renunciation known as the BRAHMAN.


बुद्ध्‌या विशुद्धया युक्तो धृत्यात्मानं नियम्य च।
शब्दादीन्विषयांस्त्यक्त्वा रागद्वेषौ व्युदस्य च৷৷18.51৷৷
विविक्तसेवी लघ्वाशी यतवाक्कायमानस।
ध्यानयोगपरो नित्यं वैराग्यं समुपाश्रितः৷৷18.52৷৷
अहङकारं बलं दर्पं कामं क्रोधं परिग्रहम्‌।
विमुच्य निर्ममः शान्तो ब्रह्मभूयाय कल्पते৷৷18.53৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : विशुद्ध बुद्धि से युक्त तथा हलका, सात्त्विक और नियमित भोजन करने वाला, शब्दादि विषयों का त्याग करके एकांत और शुद्ध देश का सेवन करने वाला, सात्त्विक धारण शक्ति के (इसी अध्याय के श्लोक 33 में जिसका विस्तार है) द्वारा अंतःकरण और इंद्रियों का संयम करके मन, वाणी और शरीर को वश में कर लेने वाला, राग-द्वेष को सर्वथा नष्ट करके भलीभाँति दृढ़ वैराग्य का आश्रय लेने वाला तथा अहंकार, बल, घमंड, काम, क्रोध और परिग्रह का त्याग करके निरंतर ध्यान योग के परायण रहने वाला, ममतारहित और शांतियुक्त पुरुष सच्चिदानन्दघन ब्रह्म में अभिन्नभाव से स्थित होने का पात्र होता है ৷৷18.51-53॥

When one possesses clear reasoning abilities, control of the mind, pure determination, and a divine soul; when he has totally given up all the objects that bring pleasure to his senses; whose spirit has risen beyond the emotional states of passion and hate. …He who lives in solitude and secluded silence; who eats only the absolutely necessary quantities of food (for survival); who partakes in steady meditation and concentration on the Supreme Spirit; whose thoughts, speech, and bodily movements are under constant control. …who does not let passion control his will; who is rid of his greed, violence and pride; whose feelings of anger and lust are abolished; who has broken free from the bondages of all his material possessions; and who treats all other fellow beings in this world equally; a being who possesses all such qualities has reached the highest state of self-realization possible, namely that which is the Brahman, which is in the heart of the Lord.


ब्रह्मभूतः प्रसन्नात्मा न शोचति न काङ्क्षति।
समः सर्वेषु भूतेषु मद्भक्तिं लभते पराम्‌৷৷18.54৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : फिर वह सच्चिदानन्दघन ब्रह्म में एकीभाव से स्थित, प्रसन्न मनवाला योगी न तो किसी के लिए शोक करता है और न किसी की आकांक्षा ही करता है। ऐसा समस्त प्राणियों में समभाव वाला (गीता अध्याय 6 श्लोक 29 में देखना चाहिए) योगी मेरी पराभक्ति को ( जो तत्त्व ज्ञान की पराकाष्ठा है तथा जिसको प्राप्त होकर और कुछ जानना बाकी नहीं रहता वही यहाँ पराभक्ति, ज्ञान की परानिष्ठा, परम नैष्कर्म्यसिद्धि और परमसिद्धि इत्यादि नामों से कही गई है) प्राप्त हो जाता है ৷৷18.54॥

This being becomes one with God (or the Supreme Brahman), and his soul experiences true joy, peace and bliss. He no longer feels any desire for material things nor does he recognize any grief. He extends his love to all creation in this world and shows supreme love and unfailing devotion to Me, the Lord of all.


भक्त्या मामभिजानाति यावान्यश्चास्मि तत्त्वतः।
ततो मां तत्त्वतो ज्ञात्वा विशते तदनन्तरम्‌৷৷18.55৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : उस पराभक्ति के द्वारा वह मुझ परमात्मा को, मैं जो हूँ और जितना हूँ, ठीक वैसा-का-वैसा तत्त्व से जान लेता है तथा उस भक्ति से मुझको तत्त्व से जानकर तत्काल ही मुझमें प्रविष्ट हो जाता है ৷৷18.55॥

One can only fully understand Me, the Supreme Spirit, as I truly am, by pouring out his pure love and devotion to Me. When this being has truly realized and understood Me, in the end, he enters into and becomes a part of Me, the Supreme Soul.


भक्ति सहित कर्मयोग का विषय
सर्वकर्माण्यपि सदा कुर्वाणो मद्व्यपाश्रयः।
मत्प्रसादादवाप्नोति शाश्वतं पदमव्ययम्‌৷৷18.56৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : मेरे परायण हुआ कर्मयोगी तो संपूर्ण कर्मों को सदा करता हुआ भी मेरी कृपा से सनातन अविनाशी परमपद को प्राप्त हो जाता है ৷৷18.56॥

While engaged in whatever task a person has been prescribed, a person can task refuge in Me, and with My Divine Grace and Protection, a person, can easily reach the most Supreme and Eternal Abode where I reside.


चेतसा सर्वकर्माणि मयि सन्न्यस्य मत्परः।
बुद्धियोगमुपाश्रित्य मच्चित्तः सततं भव৷৷18.57৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : सब कर्मों को मन से मुझमें अर्पण करके (गीता अध्याय 9 श्लोक 27 में जिसकी विधि कही है) तथा समबुद्धि रूप योग को अवलंबन करके मेरे परायण और निरंतर मुझमें चित्तवाला हो ৷৷18.57॥

Arjuna, if one truly offers and dedicates, with his heart, all of his actions to Me, depending on Me for the results of his actions; realizes that the results of his actions lie in My hands alone; sees Me as the ultimate result of his love, devotion and meditation, in the end his soul combines with Mine for eternity.


मच्चित्तः सर्वदुर्गाणि मत्प्रसादात्तरिष्यसि।
अथ चेत्वमहाङ्‍कारान्न श्रोष्यसि विनङ्क्ष्यसि৷৷18.58৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : उपर्युक्त प्रकार से मुझमें चित्तवाला होकर तू मेरी कृपा से समस्त संकटों को अनायास ही पार कर जाएगा और यदि अहंकार के कारण मेरे वचनों को न सुनेगा तो नष्ट हो जाएगा अर्थात परमार्थ से भ्रष्ट हो जाएगा ৷৷18.58॥

O Arjuna, if one truly offers and dedicates, with his heart, all of his actions to Me, depending on Me for the results of his actions; realizes that the results of his actions lie in My hands alone; sees Me as the ultimate result of his love, devotion and meditation, in the end his soul combines with Mine for eternity.


यदहङ्‍कारमाश्रित्य न योत्स्य इति मन्यसे ।
मिथ्यैष व्यवसायस्ते प्रकृतिस्त्वां नियोक्ष्यति ৷৷18.59৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : जो तू अहंकार का आश्रय लेकर यह मान रहा है कि ‘मैं युद्ध नहीं करूँगा’ तो तेरा यह निश्चय मिथ्या है, क्योंकि तेरा स्वभाव तुझे जबर्दस्ती युद्ध में लगा देगा ৷৷18.59॥

If you do not fight the battle which you are destined to fight and you disobey My instructions, I shall consider this act to be one of extreme vanity and misguidance. However, O Son of Kunti, you will be impelled into warfare with your enemies by your very own nature.


स्वभावजेन कौन्तेय निबद्धः स्वेन कर्मणा ।
कर्तुं नेच्छसि यन्मोहात्करिष्यस्यवशोऽपि तत्‌ ৷৷18.60৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : हे कुन्तीपुत्र! जिस कर्म को तू मोह के कारण करना नहीं चाहता, उसको भी अपने पूर्वकृत स्वाभाविक कर्म से बँधा हुआ परवश होकर करेगा ৷৷18.60॥

Although you do not want to accomplish your prescribed task, O Arjuna, you will undoubtedly be driven by your own personality and good nature to perform your designated duty. You will also act out My wishes and perform the task ahead of you, O Arjuna, because of your bondage to KARMA (constructive action) in your past life.


ईश्वरः सर्वभूतानां हृद्देशेऽजुर्न तिष्ठति।
भ्रामयन्सर्वभूतानि यन्त्रारुढानि मायया৷৷18.61৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : हे अर्जुन! शरीर रूप यंत्र में आरूढ़ हुए संपूर्ण प्राणियों को अन्तर्यामी परमेश्वर अपनी माया से उनके कर्मों के अनुसार भ्रमण कराता हुआ सब प्राणियों के हृदय में स्थित है ৷৷18.61॥

The yogis or My divine devotees have gained or achieved self control; they have complete control of their senses and therefore they have also earned the power of constant wisdom. Their minds are constantly focussed and concentrated on ME, the Supreme Goal.


तमेव शरणं गच्छ सर्वभावेन भारत।
त्प्रसादात्परां शान्तिं स्थानं प्राप्स्यसि शाश्वतम्‌৷৷18.62৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : हे भारत! तू सब प्रकार से उस परमेश्वर की ही शरण में (लज्जा, भय, मान, बड़ाई और आसक्ति को त्यागकर एवं शरीर और संसार में अहंता, ममता से रहित होकर एक परमात्मा को ही परम आश्रय, परम गति और सर्वस्व समझना तथा अनन्य भाव से अतिशय श्रद्धा, भक्ति और प्रेमपूर्वक निरंतर भगवान के नाम, गुण, प्रभाव और स्वरूप का चिंतन करते रहना एवं भगवान का भजन, स्मरण करते हुए ही उनके आज्ञा अनुसार कर्तव्य कर्मों का निःस्वार्थ भाव से केवल परमेश्वर के लिए आचरण करना यह ‘सब प्रकार से परमात्मा के ही शरण’ होना है) जा। उस परमात्मा की कृपा से ही तू परम शांति को तथा सनातन परमधाम को प्राप्त होगा ৷৷18.62॥

O Son of Kunti, willingly surrender your life and soul unto HIM. O Bharata, seek Him only for refuge and salvation and you shall have achieved eternal peace and bliss in His Supreme abode.


इति ते ज्ञानमाख्यातं गुह्याद्‍गुह्यतरं मया ।
विमृश्यैतदशेषेण यथेच्छसि तथा कुरु ৷৷18.63৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : इस प्रकार यह गोपनीय से भी अति गोपनीय ज्ञान मैंने तुमसे कह दिया। अब तू इस रहस्ययुक्त ज्ञान को पूर्णतया भलीभाँति विचार कर, जैसे चाहता है वैसे ही कर ৷৷18.63॥

O Arjuna, I have revealed to you My words of wisdom and holy advice. Give serious thought and consideration to the divine words that I have spoken unto you. They are Eternal Truths of life and the after-life, and are not hidden mysteries of any kind. However Arjuna, I can only preach and guide you to the Light of Wisdom. It is up to you alone to abide by My teachings.


सर्वगुह्यतमं भूतः श्रृणु मे परमं वचः ।
इष्टोऽसि मे दृढमिति ततो वक्ष्यामि ते हितम्‌ ৷৷18.64৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : संपूर्ण गोपनीयों से अति गोपनीय मेरे परम रहस्ययुक्त वचन को तू फिर भी सुन। तू मेरा अतिशय प्रिय है, इससे यह परम हितकारक वचन मैं तुझसे कहूँगा ৷৷18.64॥

O Arjuna, because of My deep love and respect for you, your friendship and your devotion to Me. I will reveal to you once more, the most confidential portion of My Divine Knowledge. Hear these words once more O Arjuna, because they will lead you to salvation and Eternal Happiness.


मन्मना भव मद्भक्तो मद्याजी मां नमस्कुरु ।
मामेवैष्यसि सत्यं ते प्रतिजाने प्रियोऽसि मे ৷৷18.65৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : हे अर्जुन! तू मुझमें मनवाला हो, मेरा भक्त बन, मेरा पूजन करने वाला हो और मुझको प्रणाम कर। ऐसा करने से तू मुझे ही प्राप्त होगा, यह मैं तुझसे सत्य प्रतिज्ञा करता हूँ क्योंकि तू मेरा अत्यंत प्रिय है ৷৷18.65॥

Devote your heart, mind, religious sacrifices and prayers to Me for eternity O Partha, and you shall, without fail, become a part of Me forever. This is My promise to you, My devotee.


सर्वधर्मान्परित्यज्य मामेकं शरणं व्रज ।
अहं त्वा सर्वपापेभ्यो मोक्षयिष्यामि मा शुचः ৷৷18.66৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : संपूर्ण धर्मों को अर्थात संपूर्ण कर्तव्य कर्मों को मुझमें त्यागकर तू केवल एक मुझ सर्वशक्तिमान, सर्वाधार परमेश्वर की ही शरण (इसी अध्याय के श्लोक 62 की टिप्पणी में शरण का भाव देखना चाहिए।) में आ जा। मैं तुझे संपूर्ण पापों से मुक्त कर दूँगा, तू शोक मत कर ৷৷18.66॥

Detach yourself from all worldly things O Arjuna, and reach out to Me for your salvation and liberation from this world. I shall always protect you from all the worldly sins you may encounter. Put your full love, trust, and devotion in me and you shall fear nothing.


श्रीगीताजी का माहात्म्य


इदं ते नातपस्काय नाभक्ताय कदाचन ।
न चाशुश्रूषवे वाच्यं न च मां योऽभ्यसूयति ৷৷18.67৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : तुझे यह गीत रूप रहस्यमय उपदेश किसी भी काल में न तो तपरहित मनुष्य से कहना चाहिए, न भक्ति-(वेद, शास्त्र और परमेश्वर तथा महात्मा और गुरुजनों में श्रद्धा, प्रेम और पूज्य भाव का नाम ‘भक्ति’ है।)-रहित से और न बिना सुनने की इच्छा वाले से ही कहना चाहिए तथा जो मुझमें दोषदृष्टि रखता है, उससे तो कभी भी नहीं कहना चाहिए ৷৷18.67॥

The Blessed Lord urged: Do not, O Partha, explain My teachings to those who lack self-discipline; who lack love and devotion towards Me; who do not believe in Me; and who argue against My divine words of Wisdom.


य इमं परमं गुह्यं मद्भक्तेष्वभिधास्यति ।
भक्तिं मयि परां कृत्वा मामेवैष्यत्यसंशयः ৷৷18.68৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : जो पुरुष मुझमें परम प्रेम करके इस परम रहस्ययुक्त गीताशास्त्र को मेरे भक्तों में कहेगा, वह मुझको ही प्राप्त होगा- इसमें कोई संदेह नहीं है ৷৷18.68॥

However O Bharata, he who preaches My divine teachings to those who show true love and devotion to Me and who, themselves, are eternally devoted to Me, in the end, they shall also become a part of Me.


न च तस्मान्मनुष्येषु कश्चिन्मे प्रियकृत्तमः ।
भविता न च मे तस्मादन्यः प्रियतरो भुवि ৷৷18.69৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : उससे बढ़कर मेरा प्रिय कार्य करने वाला मनुष्यों में कोई भी नहीं है तथा पृथ्वीभर में उससे बढ़कर मेरा प्रिय दूसरा कोई भविष्य में होगा भी नहीं ৷৷18.69॥

There exists no man among men in this world who can do a greater service to Me than to extend My words of wisdom and eternal truths to those who are worthy of hearing them. O Arjuna, I hold this man to be very dear to My heart.


अध्येष्यते च य इमं धर्म्यं संवादमावयोः ।
ज्ञानयज्ञेन तेनाहमिष्टः स्यामिति मे मतिः ৷৷18.70৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : जो पुरुष इस धर्ममय हम दोनों के संवाद रूप गीताशास्त्र को पढ़ेगा, उसके द्वारा भी मैं ज्ञानयज्ञ (गीता अध्याय 4 श्लोक 33 का अर्थ देखना चाहिए।) से पूजित होऊँगा- ऐसा मेरा मत है ৷৷18.70॥

The Blessed Lord Krishna declared: He who studies and truly learns this sacred conversation, O Partha, worships Me through his intelligence and light of wisdom.


श्रद्धावाननसूयश्च श्रृणुयादपि यो नरः ।
सोऽपि मुक्तः शुभाँल्लोकान्प्राप्नुयात्पुण्यकर्मणाम्‌ ৷৷18.71৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : जो मनुष्य श्रद्धायुक्त और दोषदृष्टि से रहित होकर इस गीताशास्त्र का श्रवण भी करेगा, वह भी पापों से मुक्त होकर उत्तम कर्म करने वालों के श्रेष्ठ लोकों को प्राप्त होगा ৷৷18.৷৷71॥

He who only listen to this conversation, has faith in Me, is detached from sinful activities and has no doubt concerning Me or the divine words I utter, also attains blissful freedom from this world and in the end resides among only the pious and holy men.


कच्चिदेतच्छ्रुतं पार्थ त्वयैकाग्रेण चेतसा ।
कच्चिदज्ञानसम्मोहः प्रनष्टस्ते धनञ्जय ৷৷18.72৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : हे पार्थ! क्या इस (गीताशास्त्र) को तूने एकाग्रचित्त से श्रवण किया? और हे धनञ्जय! क्या तेरा अज्ञानजनित मोह नष्ट हो गया?৷৷18.72॥

Have you heard these words of wisdom My Dear Devotee, with your mind at perfect concentration and with silence in your soul? Have you truly rid yourself of the darkness of your delusion? Has it been replaced by the inner light of wisdom, O Arjuna.

Gita Chapter 18, भगवद गीता अध्याय 18
भगवद गीता अध्याय 18

अर्जुन उवाच
नष्टो मोहः स्मृतिर्लब्धा त्वप्रसादान्मयाच्युत ।
स्थितोऽस्मि गतसंदेहः करिष्ये वचनं तव ৷৷18.73৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : अर्जुन बोले- हे अच्युत! आपकी कृपा से मेरा मोह नष्ट हो गया और मैंने स्मृति प्राप्त कर ली है, अब मैं संशयरहित होकर स्थिर हूँ, अतः आपकी आज्ञा का पालन करूँगा ৷৷18.73॥

Arjuna replied to the Almighty Krishna: By your wonderful Grace, Dear Lord and Master of the Universe, I have discovered this light in my mind and soul. My illusions no longer remain with Me. My faith in You is strong, O Great Lord Krishna. I shall devote my very life to following your advice and instructions.


संजय उवाच
इत्यहं वासुदेवस्य पार्थस्य च महात्मनः ।
संवादमिममश्रौषमद्भुतं रोमहर्षणम्‌ ৷৷18.74৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : संजय बोले- इस प्रकार मैंने श्री वासुदेव के और महात्मा अर्जुन के इस अद्‍भुत रहस्ययुक्त, रोमांचकारक संवाद को सुना ৷৷18.74॥

Sanjaya concluded: Thus my dear King, I have recited to you the very same sacred conversation of the Lord of Lords and His Faithful Devotee, Arjuna. The messages that I have recounted to you, my King, fill me with awe, wonder and excitement.


व्यासप्रसादाच्छ्रुतवानेतद्‍गुह्यमहं परम्‌ ।
योगं योगेश्वरात्कृष्णात्साक्षात्कथयतः स्वयम्‌৷৷18.75৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : श्री व्यासजी की कृपा से दिव्य दृष्टि पाकर मैंने इस परम गोपनीय योग को अर्जुन के प्रति कहते हुए स्वयं योगेश्वर भगवान श्रीकृष्ण से प्रत्यक्ष सुना ৷৷18.75॥

By the kindness of the Holy poet, Ved O’Vyas, I have heard these most confidential and sacred of conversations spoken by Lord Krishna himself, Master of all that exists in this universe, and His devoted follower Arjuna.


राजन्संस्मृत्य संस्मृत्य संवादमिममद्भुतम्‌ ।
केशवार्जुनयोः पुण्यं हृष्यामि च मुहुर्मुहुः ৷৷18.76৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : हे राजन! भगवान श्रीकृष्ण और अर्जुन के इस रहस्ययुक्त, कल्याणकारक और अद्‍भुत संवाद को पुनः-पुनः स्मरण करके मैं बार-बार हर्षित हो रहा हूँ ৷৷18.76॥

The more I recall these glorious words, my King, the more my heart is filled with unending joy, pleasure, and excitement.


तच्च संस्मृत्य संस्मृत्य रूपमत्यद्भुतं हरेः ।
विस्मयो मे महान्‌ राजन्हृष्यामि च पुनः पुनः ৷৷18.77৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : हे राजन्‌! श्रीहरि (जिसका स्मरण करने से पापों का नाश होता है उसका नाम ‘हरि’ है) के उस अत्यंत विलक्षण रूप को भी पुनः-पुनः स्मरण करके मेरे चित्त में महान आश्चर्य होता है और मैं बार-बार हर्षित हो रहा हूँ ৷৷18.77॥

O My King, whenever I remember that most beautiful and divine vision of the Glorious Lord himself, I am struck with great amazement and wonder. My heart leaps with more joy and is filled with adoration for the Lord.


यत्र योगेश्वरः कृष्णो यत्र पार्थो धनुर्धरः ।
तत्र श्रीर्विजयो भूतिर्ध्रुवा नीतिर्मतिर्मम ৷৷18.78৷৷

गीता श्लोक हिंदी अर्थ सहित : हे राजन! जहाँ योगेश्वर भगवान श्रीकृष्ण हैं और जहाँ गाण्डीव-धनुषधारी अर्जुन है, वहीं पर श्री, विजय, विभूति और अचल नीति है- ऐसा मेरा मत है ৷৷18.78॥

Wherever there is the Divine Lord Krishna, the Master of all Yoga, and the able disciple Arjuna, there is beauty, morality, extraordinary power, and victory over all evil. O King Dhrtarastra, this is my unshakeable belief and faith.


2 Shares
Share
Tweet
Share
Pin2