भगवान शिव प्रदोष स्तोत्र दुर्भाग्य व दरिद्रता नाशक है

भगवान शिव प्रदोष स्तोत्र दुर्भाग्य व दरिद्रता नाशक है

दरिद्रता और ऋण मनुष्य के जीवन में सबसे ज़्यादा असंतुष्टि पैदा करता है | सारा जीवन अस्थिर दिखाई देता है पर भगवान शिव का दरिद्रता …

Read more

radha kripa kataksh stotram in hindi with meaning

राधा कृपा कटाक्ष स्तोत्र अर्थ सहित | Radha Kripa Kataksh

राधा कृपा कटाक्ष स्तोत्र भगवान शिव द्वारा रचित और देवी पार्वती से बोली जाने वाली राधा कृपा कथा श्रीमती राधा रानी की एक बहुत शक्तिशाली …

Read more

naag puja stotra

नाग पूजा स्तोत्र | Naag Puja Mantra

पौराणिक धर्मग्रंथों के अनुसार हर साल सावन के महीने के शुक्ल पक्ष की पंचमी को नाग पूजा का विधान है। इसी पंचम तिथि को नागपंचमी …

Read more

shree gopal kavacham stotra

श्री गोपाल कवचम् | Gopal Kavacham Stotra | Gopal kavach

नारद पंचरात्रा में श्री गोपाल कवचम् स्तोत्र का उल्लेख किया गया है। श्री गोपाल कवचम् को भगवान महादेव ने देवी पार्वती को बताया है। जो …

Read more

Devi Keelakam Stotram

Devi Keelakam Stotram | दुर्गा कीलक स्तोत्रम् मंत्र

Devi Keelakam Stotram   ॥ अथ कीलकम् ॥ ॐ अस्य श्रीकीलकमन्त्रस्य शिव ऋषिः,अनुष्टुप् छन्दः, श्रीमहासरस्वती देवता,श्रीजगदम्बाप्रीत्यर्थं सप्तशतीपाठाङ्गत्वेन जपे विनियोगः।  ॐ नमश्‍चण्डिकायै॥  मार्कण्डेय उवाच ॐ विशुद्धज्ञानदेहाय त्रिवेदीदिव्यचक्षुषे। …

Read more

parvati mangal paath

पार्वती मंगल पाठ | Parvati Mangal Path

पार्वती मंगल पाठ तुलसीदास जी द्वारा रचा गया है | Parvati Mangal Path में भगवान शंकर एवं पार्वती के विवाह का चित्रण किया गया है। …

Read more

Swarn akarshana Bhairava Stotram

Swarn akarshana Bhairava Stotram | स्वर्णाकर्षण भैरव स्तोत्र

  Swarn akarshana Bhairava Stotra  । श्री मार्कण्डेय उवाच ।।   भगवन् ! प्रमथाधीश ! शिव-तुल्य-पराक्रम !  पूर्वमुक्तस्त्वया मन्त्रं, भैरवस्य महात्मनः ।।  इदानीं श्रोतुमिच्छामि, तस्य स्तोत्रमनुत्तमं ।  …

Read more

बिल्वाष्टकम्: एक बिल्वं शिवार्पणम्

शिव बिल्वाष्टकम् | शिवार्पणम् | Shiva Bilvashtakam Stotram

 श्री शिव बिल्वाष्टकम्  ” शिव बिल्वाष्टकम् में बेल पत्र (बिल्व पत्र) के गुणों के साथ-साथ भगवान शंकर का उसके प्रति प्रेम भी बताया गया है …

Read more

shiva vedsaar stotram Durga Saptashati Argala Stotram | दुर्गा सप्तशती स्तोत्रम

Shiv Vedsar Stotra | वेदसार शिवस्तव स्तोत्रम्

वेदसार शिव स्तोत्रम् शिव पूजा की सरल विधि  प्रतिदिन सुबह जल्दी उठकर शिवलिंग पर जल, दूध,दही,घी  या पंचामृत स्नान के बाद सफेद फूल और श्रीफल अर्पित …

Read more

Meenakshi pancharatnam Durga Saptashati Argala Stotram | दुर्गा सप्तशती स्तोत्रम

मीनाक्षी पञ्चरत्नम् स्तोत्रम | Meenakshi Pancharatnam Stotram

श्री मीनाक्षी पञ्चरत्नम् स्तोत्रम के रचियता श्री शंकराचार्य जी हैं ! श्री मीनाक्षी देवी जी माँ लक्ष्मी जी का ही स्वरुप माना जाता हैं और …

Read more

Govinda Panchavimshati Stotram Durga Saptashati Argala Stotram | दुर्गा सप्तशती स्तोत्रम

Govinda Panchavimshati Stotram | गोविन्द पञ्चविंशति स्तोत्रम्

  ईश्वरः परमः कृष्णः सच्चिदानन्दविग्रहः। अनादिरादिर्गोविन्दः सर्वकारणकारणम् ॥१  चिन्तामणिप्रकरसद्मसु  कल्पवृक्ष-लक्षावृतेषु  सुरभीरभिपालयन्तम् ।  लक्ष्मीसहस्रशतसंभ्रमसेव्यमानं गोविन्दमादिपुरुषं तमहं भजामि ॥२॥   वेणुं क्वणन्तमरविन्ददलायताक्षं बर्हावतंसमसितांबुदसुन्दरांगम्।  कन्दर्पकोटिकमनीयविशेषशोभं गोविन्दमादिपुरुषं तमहं भजामि …

Read more

uma mahesh stotram Durga Saptashati Argala Stotram | दुर्गा सप्तशती स्तोत्रम

Uma Maheshwara Stotram | उमा महेश्वर स्तोत्रम

उमा महेश्वर स्तोत्रम  नमः शिवाभ्यां नवयौवनाभ्याम्, परस्पराश्लिष्टवपुर्धराभ्याम् ।  नागेन्द्रकन्यावृषकेतनाभ्याम्, नमो नमः शङ्करपार्वतीभ्याम् ॥ १॥   नमः शिवाभ्यां सरसोत्सवाभ्याम्, नमस्कृताभीष्टवरप्रदाभ्याम् ।  नारायणेनार्चितपादुकाभ्यां, नमो नमः शङ्करपार्वतीभ्याम् ॥ …

Read more

Shiva Padadi Keshanta Varnana Stotram

Shiva Padadi Keshanta Varnana Stotram | शिव पदादि केशान्त वर्णन स्तोत्रम्

Shiva padadi kesant varna stotram  कल्याणं नो विधत्तां कटकतटलसत्कल्पवाटीनिकुञ्ज-,  क्रीडासंसक्तविद्याधरनिकरवधूगीतरुद्रापदानः।   तारैर्हेरंबनादैस्तरलितनिनदत्तारकारातिकेकी,  कैलासः शर्वनिर्वृत्यभिजनकपद: सर्वदा पर्वतेन्द्रः॥१॥    यस्य प्राहुः स्वरूपं सकलदिविषदां सारसर्वस्वयोगं,  यस्येषुः शार्ङ्गधन्वा समजनि जगतां रक्षणे …

Read more

Naag Sarpa Stotra

Naag Sarpa Stotra | नाग सर्पाः स्तोत्र

 ब्रह्म लोके च ये सर्पाः शेषनागाः पुरोगमाः । नमोऽस्तु तेभ्यः सुप्रीताः प्रसन्नाः सन्तु मे सदा ॥१॥   विष्णु लोके च ये सर्पाः वासुकि प्रमुखाश्चये । …

Read more